रामपुर 
समाजवादी पार्टी सांसद आजम खां पर लगातार हो रहे मुकदमों पर लंबे समय तक चुप्पी साधे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के रामपुर दौरे को उपचुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। न सिर्फ सियासी गलियारों बल्कि प्रशासनिक हलके में भी यह चर्चा-ए-आम है कि अखिलेश आजम के बहाने रामपुर में उप चुनाव की सियासी बिसात बिछाने आ रहे हैं।

अपने लंबे सियासी सफर के कारण आजम खां रामपुर में काफी मजबूत माने जाते हैं। जिले में सबसे बड़ा सियासी घराना उन्हीं का है। खुद सांसद हैं, पत्नी राज्यसभा सदस्य और बेटा विधायक है। यही वजह है कि रामपुर में सपा को आजम खां के तौर पर देखा जाता है। कई बार आजम खां ने इसका अहसास भी कराया है। वह चाहे विधानसभा चुनाव रहे हों या लोकसभा चुनाव, आजम खां ने अपनी ताकत का अहसास कराया है। विस चुनाव में प्रदेश में प्रचंड बहुमत पाने वाली भाजपा रामपुर में पांच में से महज दो सीटें ही जीत सकी। जबकि तीन सीटों पर खुद आजम खां, उनके बेटे अब्दुल्ला और उनके करीबी नसीर अहमद जीते। इसी तरह लोस चुनाव में भी रामपुर, संभल, मुरादाबाद की सीटें सपा के खाते में गईं।

बीते करीब डेढ़ साल से आजम खां की घेराबंदी चल रही है। उनके खिलाफ राजस्व बोर्ड में जमीनों के वाद दायर कराए गए, हाईकोर्ट में केस चल रहे हैं। लोस चुनाव के बाद एकाएक शिकंजा कसता चला गया। न सिर्फ आजम बल्कि, उनकी पत्नी, बेटों और समर्थकों तक पर मुकदमे दर्ज हुए। कई मामलों में पुलिस चार्जशीट भी लगा चुकी है। लेकिन, सपा ने लंबे समय तक आजम प्रकरण से खुद को अलग रखा।

उप चुनाव करीब आते ही सपा आजम खां का दर्द बांटने में जुट गई है। पिछले दिनों सपा ने प्रतिनिधि मंडल रामपुर भेजा, एक अगस्त को बरेली-मुरादाबाद मंडल के सपाइयों ने गिरफ्तारी दीं, मुलायम सिंह यादव ने आजम की हिमायत में बयान दिया और अब अखिलेश यादव खुद रामपुर आ रहे हैं। यही कारण है कि तेजी से बदलते घटनाक्रम को उप चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है।

डिंपल को चुनाव लड़ाने की तैयारी 
सियासी गलियारों में चर्चा है कि रामपुर विस सीट से अखिलेश यादव अपनी पत्नी डिम्पल यादव को चुनाव लड़ा सकते हैं। पूर्व में डिम्पल यादव कई बार रामपुर आयी भी हैं। आजम के आरपीएस (रामपुर पब्लिक स्कूल) के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि भी रही हैं। इसलिए अखिलेश यादव के आगमन को इससे भी जोड़कर देखा जा रहा है।

सभी पार्टियों ने शुरू कर दी तैयारी
उप चुनाव की बिसात सिर्फ सपा ही नहीं बिछा रही, दूसरी पार्टियों ने भी इसकी शुरुआत कर दी है। कांग्रेस अपने तरीके से तैयारी में जुटी है तो भाजपा प्रत्याशी के चयन में लगी हुई है। दूसरी पार्टी के एक बड़े मुस्लिम नेता से भाजपा की नजदीकियां बढ़ती जा रही है। चर्चा है कि नेताजी को भाजपा अपने पाले में कर उन्हें टिकट दे देगी। वहीं, बसपा ने प्रत्याशी के तौर पर रिटायर्ड आईआरएस अफसर जुबैर मसूद पर दावं लगा दिया है।