पटना  
गौरीचक थाने के कमरजी गांव में मंगलवार देर रात बाइक सवार तीन बदमाशों ने कपड़ा कारोबारी अजय राय (40) को गोलियों से भून दिया। ताबड़तोड़ पांच गोली मारे जाने से घायल कारोबारी की मौके पर ही मौत हो गई। वारदात को अंजाम देने के बाद अपराधी हथियार लहराते हुए फरार हो गये। हत्या उस वक्त की गयी जब कारोबारी अपने कुत्ते को घर के बाहर टहला रहा था। गोली की आवाज सुन मृतक के परिजन व अन्य ग्रामीण मौके पर पहुंचे और इसकी सूचना पुलिस को दी। मोहर्रम के जुलूस में शामिल पुलिस सूचना मिलते आनन फानन में मौके पर पहुंच छानबीन में जुट गयी थी। समाचार लिखे जाने तक मृतक के परिजनों की ओर से पुलिस को कुछ नहीं बताया गया था। इसके लिए घटना का कारण अबतक स्पष्ट नहीं हो सका है।

प्रापर्टी डीलर भी था अजय
मृतक गौरीचक बाजार में कपड़े का व्यवसाय करने के साथ ही प्रापर्टी डीलर का भी काम करता था। बताया गया है कि मंगलवार की देर शाम गौरीचक स्थित अपने कपड़े की दुकान को बंद कर अजय घर आ गये थे। खाना खाने के बाद वे प्रतिदिन की तरह मंगलवार को भी अपने पालतू कुत्ते को लेकर घर से महज चंद कदम की दूरी पर स्थित पुनपुन नदी पर बने सुरक्षा बांध पर टहलने जा रहे थे। इस बात की जानकारी बदमाशों को पहले से थी। लिहाजा वे जैसे कुत्ते को लेकर सुरक्षा बांध पर पहुंचे ही थे कि इसी बीच एक बाइक पर सवार तीन युवक वहां आ धमके। अजय राय अभी कुछ समझ पाते कि इसके पहले तीनों बदमाशों ने पिस्तौल निकाल उन पर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। पांच गोली लगने पर वह लहूलुहान होकर गिर गए। मौके पर ही उनकी मौत हो गई। वारदात के बाद बदमाश पुनपुन की ओर भाग निकले। 

हत्या को लेकर हर कोई सन्न
गोली की आवाज सुन जब परिजन व अन्य ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो देखा कि खून से लथपथ अजय राय गिरे पड़े हैं। परिजन उन्हें पटना स्थित एक नर्सिंग होम में ले गये ,जहां चिकित्सकों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया। बाद में परिजन शव को लेकर गांव पहुंचे। ग्रामीणों की मानें तो मृतक अजय राय कपड़े की दुकान के अलावे कुछ दिनों से प्रापर्टी डीलर का काम कर रहे थे और उन्होंने जो भी जमीन लिया या बेचा सब साफ सुथरी जमीन थी। आखिरकार घटना को किसने और क्यों अंजाम दिया, इसकी जानकारी फिलहाल कोई नही दे रहा था। हर कोई सन्न था। 

गौरीचक थानाध्यक्ष दिनेश कुमार ने बताया कि घटना की सूचना मिलते पुलिस मौके पर पहुंच छानबीन कर रही है। परिजनों से बातचीत के बाद ही हत्या के कारणों का पता सपष्ट हो सकेगा अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए जगह जगह छापेमारी की जा रही है। इधर, उनके परिजनों के बीच घटना के बाद गांव में कोहराम मच गया है। परिजन को रो-रो कर बुरा हाल है।