नई दिल्ली
 दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने अस्पतालों के विस्तार से संबंधित योजनाओं की स्टेटस रिपोर्ट मंगलवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सौंपी। जिसमें दिल्ली सरकार के अस्पतालों में 13 हजार, 899 बेड बढ़ाने का जिक्र है। 17 अस्पतालों का विस्तार भी होगा। तीन नए अस्पताल छह माह में बनकर तैयार हो जाएंगे। इसके अलावा छह नए अस्पतालों का भी निर्माण होगा। इन परियोजनाओं के पूरा होने पर दिल्ली सरकार के अस्पतालों में बेड क्षमता 120 फीसद बढ़ जाएगी।

सबसे बड़ी विस्‍तार परियोजना

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि यह स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए दुनिया की सबसे बड़ी विस्तार परियोजना है। इसका मकसद दिल्ली के लोगों को गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करना है। इलाज में आर्थिक आधार पर लोगों से भेदभाव नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2023 तक सभी परियोजनाएं पूरी हो जाएंगी।

बेड दोगुने करने का लक्ष्‍य

वर्ष 2015 में केजरीवाल सरकार ने अस्पतालों में दोगुना बेड बढ़ाने की घोषणा की थी। इसके तहत स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों के विस्तार की योजना बनाई थी। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग से इन परियोजनाओं की विस्तृत रिपोर्ट मांगी थी। इस समय दिल्ली सरकार के 38 अस्पतालों में 11 हजार 353 बेड उपलब्ध हैं। इनमें 13 हजार 899 बेड और जोड़े जाएंगे।

तीन अस्पताल जल्द होंगे तैयार

द्वारका, बुराड़ी व अंबेडकर नगर में तीन अस्पतालों का निर्माण चल रहा है। इन तीन अस्पतालों में 2613 बेड होंगे। अंबेडकर नगर में अस्पताल का भवन काफी हद तक बनकर तैयार है। द्वारका में मार्च 2020 तक अस्पताल बनकर तैयार होगा। वहीं बुराड़ी में नवंबर के अंत तक अस्पताल बनकर तैयार होगा।