मेरठ 
                                                                
दिव्यांग खिलाड़ियों को उनका हक दिलाने के लिए स्पोर्ट्स स्टेडियम में भूख हड़ताल पर बैठे पैरा ओलंपियन पावर लिफ्टर सचिन चौधरी की तबीयत बिगड़ने लगी है, लेकिन उनका हौसला बुलंद है। उन्होंने ऐलान किया कि जब तक दिव्यांग खिलाड़ियों को उनका हक नहीं मिल जाता तब तक वह भूख हड़ताल पर डटे रहेंगे।

अनशन के दूसरे दिन मंगलवार को क्रीड़ा भारती के पदाधिकारी समेत कई जनप्रतिनिधि उनसे मिलने पहुंचे। ज्ञापन लेकर उनकी मांग पूरी कराने का आश्वासन दिया। देर शाम तक पुलिस-प्रशासन के किसी भी अधिकारी ने उनकी सुध नहीं ली। कैलाश प्रकाश स्पोर्ट्स स्टेडियम में सचिन चौधरी और उनके साथ अन्य दिव्यांग खिलाड़ियों का अनशन मंगलवार को भी जारी रहा। सरकार से पैरा स्पोर्ट्स पॉलिसी और नौकरी की अपेक्षा के साथ समान अधिकार की मांग रखी।

इस दौरान उन्होंने कहा कि हम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मेडल जीतकर देश के साथ प्रदेश का मान बढ़ा रहे हैं, ऐसे में प्रदेश सरकार को भी हमारे हित में सोचना चाहिए। हमारे साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है। उधर, क्रीड़ा भारती के प्रांत कार्यकारी सदस्य कपिल त्यागी, उनका हाल जानने स्टेडियम पहुंचे। कपिल त्यागी ने कहा कि दिव्यांगों की जो जायज मांग हैं, उनको पूरा किया जाएगा। भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारी, सपा नेता अतुल प्रधान आदि भी उनसे मिलने पहुंचे।