नई दिल्ली
पश्चिम बंगाल से दिल्ली नौकरी की तलाश में आई 16 साल की एक नाबालिग लड़की के साथ वेस्ट दिल्ली में दो लड़कों ने गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। इस घिनौनी वारदात को बसई दारापुर इलाके में स्थित ईएसआई हॉस्पिटल परिसर में अंजाम दिया गया। पीड़िता को 12 घंटे से भी अधिक समय तक यहां एक खाली फ्लैट में बंधक बनाकर रखा गया। इस दौरान दोनों आरोपियों ने नाबालिग लड़की के साथ कई मर्तबा गैंगरेप किया। पुलिस को इस घटना की जानकारी मंगलवार तड़के करीब 3:30 बजे मिली। इसके बाद कार्रवाई कर मोती नगर थाना पुलिस ने दोनों आरोपियों को धर दबोचा।

जानकारी के मुताबिक, 16 साल की पीड़िता सोमवार दोपहर ईएसआई हॉस्पिटल के सामने शिवाजी पार्क में अकेली बैठी थी। दोपहर करीब 12 बजे दो दरिंदे पार्क में आए। दोनों ने लड़की को यहां अकेले बैठे देखा। कुछ देर तक लड़की की निगरानी करने के बाद उन्होंने यह भांप लिया कि वह अकेली बैठी है और यहां किसी के साथ नहीं आई है। इसके बाद दोनों लड़के उसके पास पहुंचे और उसे नौकरी दिलाने का झांसा देकर ईएसआई हॉस्पिटल परिसर में अपने साथ ले गए।

12 घंटे तक रखा बंधक
बताया जाता है कि वहां एक पुराने फ्लैट में दोनों ने नाबालिग के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। इसके बाद दोनों ने पीड़िता को सोमवार-मंगलवार रात 1 बजे के बाद छोड़ा। इस दौरान हॉस्पिटल की ओर से कोई भी सिक्यॉरिटी गार्ड या अन्य स्टाफ उस ओर नहीं फटका। आरोपी 12 घंटे से भी अधिक समय तक लड़की को बंधक बनाकर रेप करते रहे, लेकिन इस दौरान अस्पताल का कोई भी सुरक्षाकर्मी वहां नहीं पहुंचा।

बदहवास हालत में छोड़कर भागे
बाद में आरोपी जब लड़की को बदहवास हालत मे छोड़कर भाग गए, तब लड़की वहां से बाहर निकली। इसके बाद हॉस्पिटल के सिक्यॉरिटी सुपरवाइजर की ओर से पुलिस को मंगलवार तड़के करीब 3:30 बजे पीसीआर कॉल की गई। कॉलर ने बताया कि यहां एक लड़की बदहवास हालत में पाई गई है। मौके पर मोती नगर थाने के एसएचओ संदीप कुमार, महिला एसआई रजनी और मनीष समेत कई अन्य पुलिसकर्मी पहुंचे।