मुंबई
'साथ निभाना साथिया' (Saath Nibhana Saathiya) में अहम की भूमिका के लिए मशहूर मोहम्मद नाजिम (Mohammad Nazim) विभिन्न शोज में अलग-अलग भूमिकाएं निभाने को लेकर खुद पर गर्व महसूस करते हैं और उनका मानना है कि किसी कलाकार के लिए लगातार खुद को गढ़ना जरूरी होता है। उन्होंने कहा, "मैंने जो भी किरदार निभाएं हैं, वे अलग हैं। पहले 'उड़ान' में मैं एक बिहारी था, जबकि मैं पंजाब से हूं। इसलिए इसे निभाना मुश्किल था। लेकिन मैं खुश हूं कि मैंने इसे सही तरीके से किया।"

उन्होंने कहा, "दूसरी बार 'रूप' में मैंने एक शातिर शख्स की भूमिका निभाई थी, जो काफी मुश्किल था। 'बहू बेगम' में मेरी भूमिका राजा की थी। तो मेरे सभी किरदार अलग-अलग रहे हैं और मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे इन किरदारों को करने का मौका मिला। एक कलाकार को लगातार खुद को गढ़ते रहने की जरूरत होती है, क्योंकि दर्शकों को विविधता चाहिए और शो जारी रहना चाहिए।"