लुसाने (स्विट्जरलैंड) 
भारतीय पुरुष हॉकी टीम को सोमवार को तोक्यो ओलिंपिक क्वॉलिफायर के अंतिम दौर में आसान ड्रॉ मिला है। टीम इंडिया को कम रैंकिंग वाली रूस की टीम से भिड़ना है, जबकि महिला टीम को अमेरिका के रूप में कड़ा प्रतिद्वंद्वी मिला है। तोक्यो खेलों में जगह बनाने के लिए टीमों के बीच लगातार दो मैच होंगे। भारतीय पुरुष टीम 1 और 2 नवंबर को रूस से खेलेगी, जबकि महिला टीम 2 और 3 नवंबर को भुवनेश्वर में अमेरिका से भिड़ेगी। 8 बार के ओलिंपिक चैंपियन भारत की एफआईएच वर्ल्ड रैंकिंग 5 जबकि रूस की 22 है। इसी साल भुवनेश्वर में एफआईएच सीरीज फाइनल के दौरान भी भारत ने रूस को 10-0 से हराया था। 

अमेरिकी महिला टीम की रैंकिंग 13 है, जबकि भारतीय महिला टीम की रैंकिंग 9 है लेकिन रानी रामपाल की अगुआई वाली टीम के लिए यह मुकाबला आसान नहीं होगा। पिछले साल लंदन में महिला वर्ल्ड कप के दौरान दोनों टीमों के बीच हुए पिछला मुकाबला काफी कड़ा रहा था और 1-1 से बराबरी पर छूटा था। भारतीय पुरुष हॉकी टीम के मुख्य कोच ग्राहम रीड ने कहा कि उन्हें ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाइ करने का यकीन है। रीड ने कहा, 'हम ओलिंपिक क्वॉलिफिकेशन हासिल करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं और इस दौरान हमारा ध्यान अपने डिफेंस में सुधार पर रहेगा। मेरा मानना है कि ट्रेनिंग और दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों के खिलाफ खेलने से हमें क्वॉलिफायर के लिए अच्छा मंच मिलेगा।' 

भारतीय महिला हॉकी टीम के कोच शोर्ड मारिन ने भी अपनी टीम की संभावनाओं को लेकर आश्वस्त हैं। क्वॉलिफायर की तैयारी के तहत भारतीय महिला टीम इस महीने इंग्लैंड के खिलाफ 5 मैचों की सीरीज खेलेगी। रानी रामपाल ने कहा, 'मेरा हमेशा से मानना रहा है कि अगर हमारी तैयार बेहतर हैं तो यह मायने नहीं रखता कि हम किसके खिलाफ खेल रहे हैं और इसी पर हमारा ध्यान है।' पुरुष वर्ग के अन्य क्वॉलिफायर मैचों में नीदरलैंड्स का सामना पाकिस्तान, ग्रेट ब्रिटेन का मलयेशिया, स्पेन का फ्रांस से, जबकि न्यू जीलैंड को कोरिया और कनाडा को आयरलैंड से भिड़ना है। जर्मनी को इस क्वॉलिफायर में ऑस्ट्रिया की चुनौती से पार पाना होगा। महिला वर्ग में ऑस्ट्रेलिया का सामना रूस से होगा, जबकि जर्मनी को इटली, ग्रेट ब्रिटेन को चिली, स्पेन को कोरिया, आयरलैंड को कनाडा और चीन को बेल्जियम से भिड़ना है।