Monday, September 24th, 2018

गैंगरेप पीड़िता का आरोप, 'क्राइम ब्रांच के चीफ ने कहा कि प्राइवेट पार्ट्स में लकड़ी डालना रेप नहीं'

अहमदाबाद 
चलती गाड़ी में गैंगरेप का शिकार एक युवती ने गुजरात पुलिस के क्राइम ब्रांच चीफ के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए हैं। 22 वर्षीय पीड़िता के पिता ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कराई जहां उसने बताया कि क्राइम ब्रांच के स्पेशल पुलिस कमिश्नर जेके भट्ट आरोपी की मदद कर रहे हैं। पीड़िता ने मांग की कि मामले की जांच स्वतंत्र एजेंसी से कराई जाए। 

साथ ही विक्टिम ने यह भी आरोप लगाया कि जेके भट्ट ने ऐसे सवाल किए हैं जो किसी रेप पीड़िता से कभी नहीं पूछे जाने चाहिए। पीड़िता ने बताया, 'उन्होंने मुझसे कहा कि गुप्तांगों में लकड़ी डालना रेप नहीं कहलाता है। इस तरह के सवालों की वजह से ही रेप पीड़िता पुलिस से शिकायत करने के बजाय आत्महत्या करना बेहतर समझती हैं। यहां तक कि मेरे मन भी एक समय पर आत्महत्या के लिए विचार आया था।' पीड़िता ने बताया कि उसे बंधक बनाकर सैटलाइट और घोडासर इलाके में रेप किया गया। 

सिटी पुलिस कमिश्नर बोले, आरोपों की होगी जांच 
प्रेस वार्ता के दौरान पीड़िता ने बताया कि जेके भट्ट ने मुझसे पूछा कि मैं उस दिन नेहरूनगर क्यों गई थी, जिस दिन यह घटना हुई थी। पीड़िता ने कहा, 'उन्होंने कई बार मुझसे ऊंची आवाज में बात की और रेप एफआईआर को चीटिंग शिकायत में बदलने का दबाव भी बनाया।' 

पीड़िता ने कहा, 'जेके भट्ट ने कहा कि मैंने षडयंत्र के तहत रेप शिकायत दर्ज कराई है क्योंकि मेरा एक आरोपी से ब्रेकअप हुआ था। उन्होंने मुझसे कहा कि अगर वह मेरी जगह होते तो वह भी यही करते। पीड़िता ने गुजारिश की केस की जांच महिला पुलिस अधिकारियों द्वारा होनी चाहिए।' 

सिटी पुलिस कमिश्नर एके सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित करके जेके भट्ट के खिलाफ आरोप की प्रतिक्रिया में कहा कि सिटी पुलिस पर लगाए गए आरोप धब्बे की तरह हैं लेकिन फिर उन्हें अपनी टीम पर पूरा यकीन है। उन्होंने कहा, 'हम पुलिस पर लगे आरोपों की जांच जरूर करेंगे लेकिन हमारी प्राथमिकता सच सामने लाने की है।' 

'पुलिस जीतेगी पीड़िता का यकीन' 
उन्होंने यह भी कहा कि एफआईआर के ब्यौरे और हमने जो सबूत जुटाएं हैं उसमें काफी अंतर है। इन सबूतों में सीसीटीवी फुटेज, कॉल रिकॉर्ड्स, लोकेशन और मोबाइल फरेंसिक्स शामिल है। एके सिंह ने कहा कि हालांकि वह विरोधाभासी सबूतों के साथ केस को ट्रायल के लिए नहीं भेजना चाहते और पीड़िता से ही बातचीत करते हुए मामले को मजबूत बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'हमारी टीम एक बार फिर से पीड़िता का यकीन जीतेगी और सही दिशा में काम करेगी।' 

आरोपी के पिता से गुलदस्ता लेते दिखे मंत्री 
दूसरी ओर एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें गुजरात सरकार के मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा गैंगरेप के एक आरोपी गौरव के पिता महावीर डालमिया से गुलदस्ता लेते हुए दिख रहे हैं। इस पर सफाई देते हुए मंत्री ने कहा, 'जब मैं मंत्री बना था तो कई लोग मुझसे मिलने आए थे। संभवत: वह भी मुझसे उस समय मिलने आए हो।' उन्होंने मुझसे आगे कहा, 'किसी ने मुझसे बताया है कि सालासार सामूहिक विवाह सेरेमनी के दौरान की है। वह किसी भी तरह से मेरे सर्कल में नहीं है। मैंने पुलिस को आदेश दिया है कि जो भी दोषी हो उसके खिलाफ कड़ा ऐक्शन लिया जाए।' 

रेप की शिकायत दर्ज होने के तीन बाद मंत्री ने यह बयान जारी किया। उन्होंने कहा,' सैटलाइट रेप केस बेहद दुखद और संवेदनशील घटना है जिसमें किसी भी सूरत में कड़ी कार्रवाई की जाएगी।' 

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

6 + 4 =

पाठको की राय