भिण्ड
बीते रोज मीडिया को सामान्य प्रशासन और सहकारिता मंत्री डॉ गोविंद सिंह के द्वारा अवैध उत्खनन न रोक पाने की स्वीकार्यता के बाद कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष रमेश दुबे एक पत्र जिला प्रशासन के नाम लिख कर भिण्ड जिले की नदियों में चल रहे रेत के अवैध उत्खनन ,रेत अवैध भंडारण को रोकने की मांग करते हुए जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन को कटघरे में खड़ा करते हुए उनकी कार्यप्रणाली पर सवाल उठाये हैं।।

डॉ दुबे ने जिला कलेक्टर को लिखे पत्र में कहा है कि जिला प्रशासन जान बूझकर भिण्ड जिले मे सजायाफ्ता अपराधियों,नामी गिरामी बदमाशों जिन पर हत्या लूट जैसे संगीन अपराध दर्ज हैं,के संरक्षण में जिले की नदियों से रेत का अवैध उत्खनन करवा रहा है।पूरे जिले में जगह जगह रेत का भंडारण किया गया है लेकिन प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से दूर है।पर्यावरण और ग्रामीण जनता के किसानों के हितों की अनदेखी कर भिण्ड जिले की जनता के जीवन को खतरा पैदा किया जा रहा।।नदियों की संरचना खराब की जा रही है।।जिससे भिण्ड जिले का भविष्य संकट में हैं।। पर्यावरण बिगड़ कर जलीय जीवों को खतरा पैदा हो रहा है।।चम्बल नदी का घड़ियाल संरक्षण प्रोजेक्ट भी इस सबके चलते संकट में है।

रमेश दुबे ने कहा कि खनन माफियाओं ओर खनिज विभाग के अधिकारियों के संरक्षण में कौंध की मडैयन ,मेहरा,मानगढ़,माहिर,रेमजा,निवसाई, कुसमरिया,अजनार, मटयावली,परराइच, गिरवासा, मडोरी, बहादुर पुरा,खेरा,पीडोरा,इंदुर्खी,भारोली,अजीता, खेरिया,गोरम, सेंदरी, सहित दो सैकड़ा स्थानों पर असमाजिक तत्वों ने अवैध भंडारण कर रखा है ।डॉ  दुबे ने कहा है कि जब प्रदेश मे भाजपा की सरकार थी तो खुले आम आम जनता को साथ लेकर रेत माफियाओं का विरोध मेरे द्वारा लगातार किया गया।।

अवैध रेत के उत्खनन पर रोक लगाने और डम्परों से अवैध परिवहन को लेकर आये दिन उन्हें पकडवां कर   भिण्ड जिले की जनता की मन्शा के अनुरूप सड़को पर सँघर्ष किया।।उन्होंने कहा कि अब मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार है प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी,कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव श्रीमन्त ज्योतिरादित्य सिंधिया जी की भी मन्शा और नीति है कि रेत खनिज का अवैध उत्खनन नही होना चाहिए,लेकिन आज भी हम कांग्रेस जनों को जिला प्रशासन की  अपराधियो और रेत का अवैध उत्खनन करने वाले लोगों से सांठगांठ और मिली भगत के कारण संघर्ष का रास्ता अख्तियार करना पड़ रहा है।।हम आज भी भिण्ड जिले के किसानों की खेतो की जमीन बचाने, सिंध ,चम्बल,क्वांरी ,पहुज, वेसली नदियां जिन्दा रहें और हम सबको जीवन देती रहें,इसके लिए निरन्तर संघर्ष कर रहे हैं।।

डॉ रमेश दुबे ने पत्र में चेतावनी दी है कि अगर जिलाप्रशासन ने ये सब करगुजारियाँ बन्द नही की, रेत का अवैध भंडारण जप्त नही किया और नदियों पर पहुंचकर रेत की खदानों को अवैध चलाने वाले लोगों पर उचित ढंग से कार्यवाही नही की तो किसानों, शहरी और ग्रामीण जनता को साथ लेकर कांग्रेस सड़कों पर अपनी ही सरकार के जिला प्रशासन,पुलिस प्रशासन के खिलाफ़ आंदोलन के लिए बाध्य होगी।