डबरा
डबरा की एसडीएम जयति सिंह (SDM Jayati Singh) को महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी (Minister Imrati Devi) का विरोध करना भारी पड़ गया. मुख्य सचिव एसआर मोहंती (Chief Secretary SR Mohanty) ने शनिवार को एसडीएम जयति सिंह को डबरा से हटाकर ग्वालियर कलेक्ट्रेट में अटैच कर दिया. दरअसल, बुधवार को मंत्री इमरती देवी ने कृषि उपज मंडी (Agricultural produce market) की कुछ बंद दुकानों की सील खुलवा दी थीं. इन दुकानों को एसडीएम जयति सिंह ने नियमित रूप से किराया न जमा करने के कारण सील करवाया था.

दुकानों का किराया न देने पर एसडीएम ने 26 दुकानों को सील कर दिया था. इसके बाद कुछ व्यापारियों ने किराया जमा किया तो उनकी दुकानों की सील खोल दी गई थी. वहीं 11 व्यापारियों ने किराया नहीं जमा किया. बुधवार को व्यापारियों के समर्थन में मंत्री इमरती देवी (Minister Imrati Devi) डबरा पहुंचीं. उन्होंने कुछ व्यापारियों से मंडी प्रशासन को चेक दिलवाकर दुकानें खुलवा दीं.  अलगे दिन यानि गुरुवार को एसडीएम ने व्यापारियों पर अवैध रूप से सील तोड़ेने के मामले में कार्रवाई की बात कही थी. उन्होंने इस मामले की मजिस्ट्रियल जांच की बात भी कही थी.

कलेक्टर से जांच की बात सुनकर घबराए व्यापारियों ने मंत्री इमरती देवी (Minister Imrati Devi) को पूरे मामले से अवगत कराया.  नाराज इमरती देवी ने कहा था “डबरा में या तो एसडीएम रहेगी या फिर मैं”.  मामले में मंत्री इमरती देवी का कहना है कि उन्होंने व्यापारियों से चेक दिलवाए. इसके साथ ही ये भी आश्वासन दिया था कि जो व्यापारी किराया नहीं देंगे, उनका किराया वो खुद जमा करवा देंगी. लेकिन एसडीएम ब्याज जमा कराने की बात को लेकर अड़ गयीं.  इस बाबत उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पूरी जानकारी दी और एसडीएम के प्रति अपनी नाराजगी भी जताई.  इसी दौरान उन्होंने एसडीएम जयति सिंह को डबरा से हटाने की मांग की.

गौरतलब है कि भोपाल में मामला गर्माने के बाद शनिवार को मुख्य सचिव एसआर मोहंती (Chief Secretary SR Mohanty) ने एसडीएम को ग्वालियर कलेक्ट्रेट में अटैच कर दिया. इसके साथ ही उन्होंने कलेक्टर अनुराग चौधरी (Collector Anurag Chaudhary) से भी मामले की जानकारी मांगी है.  कलेक्टर अनुराज चौधरी ने बताया कि मामले की जांच के लिए अपर कलेक्टर किशोर कन्याल को नियुक्त किया है.