नई दिल्ली 
भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपनी फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) की ब्याज दरों को दूसरी बार घटाया है। इससे लाखों ग्राहकों को नुकसान होगा। बैंक ने 0.5 फीसदी तक एफडी पर ब्याज दर को कम किया है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की एफडी पर मिलने वाली ये नई ब्याज दरें सोमवार (26 अगस्त) से लागू होंगी। ऐसी उम्मीद है कि एसबीआई के इस कदम के बाद देश के दूसरे बैंक भी ब्याज दरों को घटा सकते हैं। 

आरबीआई (RB) ने 7 अगस्त को रेपो रेट घटा दिया था, जिसके बाद एसबीआई ने एफडी की ब्याज दरों को घटाने का निर्णय लिया। आरबीआई ने अपनी तीसरी द्विमासिक पॉलिसी में रेपो रेट में 35 बेसिस प्वॉइंट्स की कटौती की थी। इसके बाद ब्याद दर 5.75 फीसदी से 5.40 फीसदी रह गई। बैंक ने रिटेल एफडी पर 10-50 बेसिस प्वॉइंट और एफडी पर 30-70 बेसिस प्वॉइंट की कटौती की। 

 
7 से 45 दिन की एफडी -

एसबीआई ने 7 से 45 दिन की एफडी पर ब्याज दरों में 0.50 फीसदी की कटौती की है। फिलहाल बैंक 7 से 45 दिन की एफडी पर 5 फीसदी का ब्याज देता है। लेकिन 26 अगस्त से यह दर 4.50 फीसदी रह जाएगी।

46 दिन से 179 दिन -

एसबीआई ने 46 से 179 दिनों की एफडी पर 0.25 फीसदी की ब्याज दर घटाई है। फिलहाल बैंक 46 से 179 दिनों की एफडी पर 5.75 फीसदी का ब्याज देता है। लेकिन 26 अगस्त से 5.50 फीसदी रह ही जाएगी।

180 दिन से 210 दिन -

180 दिन से 210 दिनों की एफडी पर एसबीआई ने 0.25 फीसदी की ब्याज दर घटाई है। बैंक 180 दिनों से 210 दिनों की एफडी पर 6.25 फीसदी का ब्याज देता है। 26 अगस्त यह ब्याज दर 6.00 फीसदी रह जाएगी।

211 दिन से 1 साल -

एसबीआई ने 211 दिन से 1 साल की एफडी पर 0.25 फीसदी ब्याज दर घटाया है। इस पर फिलहाल 6.25 फीसदी ब्याद मिलता था। लेकिन 26 अगस्त से यह 6.00 फीसदी रह जाएगा।

1 साल से 2 साल -

एसबीआई 1 से 2 साल की एफडी पर अबतक 6.80 फीसदी का ब्याज दे रहा है। लेकिन रेट रिवाइज होने के बाद यह ब्याज दरें 6.70 फीसदी हो जाएगी।

2 साल से 3 साल तक -

एसबीआई 2 साल से 3 साल तक की एफडी पर 6.70 फीसदी ब्याज दे रहा है। लेकिन अब यह घटकर 6.50 फीसदी रह गया है।

3 साल से 5 साल तक -

इस एफडी पर 6.60 फीसदी का ब्याज मिल रहा है। लेकिन अब इस एफडी पर 6.25 फीसदी का ब्याज मिलेगा। 

5 साल से 10 साल तक -

5 से 10 साल पर 25 बेसिस प्वॉइंट घटाए गए हैं। इस एफडी पर 6.50 फीसदी का ब्याज मिल रहा है। लेकिन अब एसबीआई 5 से 10 साल की एफडी पर 6.25 फीसदी ब्याज देगा।