नई दिल्ली 

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन भारतीय राजनीति में उनकी पटकथा हमेशा याद की जाएगी. जेटली राजनीति की वो चेहरा थे जो अटल बिहारी वाजपेयी की बीजेपी से लेकर मोदी की बीजेपी में अहम कड़ी रहे. वैसे जेटली लोकनायक जयप्रकाश नारायण और वीपी सिंह के दौर में भी सक्रिय थे, लेकिन अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के बाद वह भारतीय जनता पार्टी के वो चेहरा बन गए जो मोदी सरकार तक चमकते रहे. हालांकि उस दौर की एक सक्रिय नेता सुषमा स्वराज भी थीं, लेकिन अब वह भी नहीं हैं.   

अटलजी और मोदी सरकार की अहम कड़ी रहे

अटल बिहारी वायपेयी सरकार की बात करें तो उस दौर के कई नेता आज सक्रिय नहीं हैं या फिर पार्टी से उनका किनारा हो चुका है. यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा पार्टी से नाता तोड़ चुके हैं, जबकि लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती जैसे दिग्गज सक्रिय राजनीति का हिस्सा नहीं हैं. अटल के दौर के नेताओं में अरुण जेटली और सुषमा स्वराज ही ऐसा चेहरा थे जिन्होंने मोदी सरकार में भी अहम भूमिका निभाई.

नई पीढ़ी में गिने जाएंगे ये नेता

वहीं, पीयूष गोयल, निर्मला सीतारमण, स्मृति ईरानी, जनरल वीके सिंह, जेपी नड्डा, डॉक्टर हर्षवर्धन, धर्मेंद्र प्रधान, किरण रिजिजू जैसे नेताओं की मोदी सरकार में भले ही बड़ी भूमिका हो, लेकिन ये नई पीढ़ी के नेताओं में ही गिने जाएंगे. वाजपेयी सरकार से मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के बीच जो अहम कड़ी थी, वो जेटली और सुषमा ही थे.   

प्रमोद महाजन से निकल गए आगे

लालकृष्ण आडवाणी की केंद्रीय टीम में जब गोविंदाचार्य, प्रमोद महाजन और वेंकैया नायडू जैसे नेताओं का वर्चस्व था तब जेटली उस थिंक टैंक का हिस्सा थे. पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने जेटली के कामों की सराहना जरूर की थी, लेकिन उनके चहेते प्रमोद महाजन ही रहे, जो कई नेताओं को पसंद नहीं थे. हालांकि प्रमोद महाजन की हत्या के बाद जेटली आडवाणी को भी साधने में सफल रहे.

अक्टूबर 1999 को अरुण जेटली वाजपेयी सरकार में पहली बार मंत्री बने. उन्हें सबसे पहले सूचना-प्रसारण (स्वतंत्र प्रभार) मंत्री का जिम्मा मिला. इसके बाद उन्हें विनिवेश मंत्रालय, कानून मंत्रालय, उद्योग और वाणिज्य मंत्रालय का जिम्मा संभाला. साल 2000 में जेटली पहली बार कैबिनेट मंत्री बने थे.


मोदी सरकार में निभाई अहम भूमिका

मोदी को 2014 लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा के पीएम पद का उम्मीदवार बनाए जाने की औपचारिक घोषणा से पहले जेटली का बड़ा रोल था. जेटली ने राजनाथ सिंह, शिवराज सिंह चौहान और नितिन गडकरी को साथ लाने अहम भूमिका निभाई थी. वहीं, मोदी प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने अरुण शौरी और सुब्रमण्यम स्वामी के आगे जेटली को तरजीह देते हुए वित्त मंत्रालय का जिम्मा सौंपा. स्वास्थ्य कारणों से जेटली 2019 में सक्रिय राजनीति से किनारे हो गए थे. मोदी सरकार में जेटली नोटबंदी, जीएसटी और तीन तलाक जैसे मामलों के लिए भी जाने जाएंगे.

दोस्ती के लिए भी जाने जाएंगे जेटली

अरुण जेटली के पार्टी के नेताओं के साथ-साथ विपक्ष के नेताओं से भी अच्छे संबंध रहे. वीपी सिंह, नीतीश कुमार, अमर सिंह, सीताराम येचुरी, शरद यादव, ज्योतिरादित्य सिंधिया, नवीन पटनायक, चंद्रबाबू नायडू, राम विलास पासवान जैसे नेता कहीं न कहीं जेटली से  व्यक्तिगत तौर पर जुड़े थे.