पटना
बिहार के मोकामा से बाहुबली निर्दलीय विधायक अनंत सिंह को रविवार की सुबह दिल्ली से लाए जाने के बाद कड़ी सुरक्षा के बीच बाढ़ अनुमंडल अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में बेउर जेल भेज दिया गया। अनंत सिंह के बाढ़ अनुमंडल अंतर्गत लदमा गांव स्थित पैतृक आवास से 16 अगस्त को एक एके-47 राइफल, एक मैगजीन, कुछ कारतूस और दो ग्रेनेड बरामद हुए थे। इसके बाद से अनंत सिंह फरार चल रहे थे।

अनंत सिंह ने शुक्रवार को दिल्ली की साकेत अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था। आधुनिक हथियार और विस्‍फोटक बरामद होने के बाद अनंत के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। उन्हें बाढ़ अदालत के प्रभारी एसीजेएम पंकज तिवारी की अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में पटना शहर स्थित बेउर जेल भेज दिया गया।


अनंत सिंह की दलील
अदालत से बेउर जेल ले जाने के क्रम में अनंत सिंह ने कहा कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं कहना है। पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) कांतेश कुमार मिश्र ने बताया कि नियमित अदालत नहीं होने के कारण पूछताछ की खातिर विधायक का रिमांड मांगने के लिए रविवार को आवेदन नहीं किया जा सका। सोमवार को पुलिस इसके लिए प्रयास करेगी।

सिंह ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने साजिश के तहत उन्हें फंसाने के लिए उनके घर में एके-47 और विस्‍फोटक रखवा दिए। उनकी पत्नी और कांग्रेस प्रत्याशी नीलम देवी ने जेडीयू सांसद राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह के खिलाफ मुंगेर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था। वह चुनाव हार गई थीं। जेडीयू से निष्कासित किए जाने के बाद सिंह ने 2015 में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मोकामा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था और विजयी रहे थे।