भोपाल
पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश कांग्रेस की कमान देने के लिए पॉलिटिकल प्रेशर तेज होता जा रही है। मंत्री इमरती देवी के शनिवार सुबह बयान देने के बाद सिंधिया के समर्थक प्रदेश प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी और भोपाल जिला कांग्रेस के एक कार्यकारी अध्यक्ष ने प्रेशर पॉलिटिक्स को आगे बढ़ाया है। इस बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ आज दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करेंगे।

सोमवार को सिंधिया इंदौर आने वाले हैं। इससे पहले उनका प्रोग्राम रविवार की रात को इंदौर आने का था। पुराने तय प्रोग्राम के तहत वे रविवार यानि आज शाम सवा छह बजे इंदौर पहुंचने वाले थे। इसके बाद सोमवार को वे सुबह 10 से 11.30 बजे तक रेसीडेंसी कोठी में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक करने वाले थे। उनके समर्थक तीन नेताओं के बयान आने के बाद सिंधिया ने इंदौर के प्रोग्राम में बदलाव किया है। अब वे रविवार की जगह सोमवार को इंदौर पहुंचेंगे। उन्होंने कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ नेताओं की बैठक का भी प्रोग्राम निरस्त कर दिया है। अब वे इंदौर आकर उज्जैन जाएंगे। वापस इंदौर आएंगे रात रुकने के बाद मंगलवार सुबह वे दिल्ली चले जाएंगे।

शनिवार को इमरती देवी ने कहा था कि महाराष्टÑ की जिम्मेदारी देने से क्या होता है, उन्हें मध्य प्रदेश की जिम्मेदारी दी जाए। इस बयान के बाद सिंधिया समर्थक प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने ट्वीट पर लिखा कि कमलनाथ और सिंधिया की जोड़ी ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को अच्छे परिणाम दिए थे। अब समय है कि यह जोड़ी पुन स्थापित की जाए, सिंधिया को पीसीसी की कमान दी जाए। भोपाल जिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कृष्णा धाडगे ने आरोप लगाते हुए कहा है कि सिंधिया की पार्टी में उपेक्षा की जा रही है। उन्होंने धमकी दी है कि यदि सिंधिया को पीसीसी चीफ नहीं बनाया तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।

सिंधिया को पीसीसी चीफ बनाने की तेज होती मांग के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ शनिवार को दिल्ली पहुंच गए हैं। वे आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से नए पीसीसी चीफ को लेकर फिर से विचार मंथन कर सकते हैं। उनकी पार्टी आलाकमान से भी मुलाकात की संभावना है। वे सोमवार को वापस भोपाल लौटेंगे।