कई बार लोग काम या किसी अन्य वजह से यूरिन को बहुत देर तक रोके रहते हैं, लेकिन उन्हें अहसास भी नहीं होता कि ऐसा करके वह अपने शरीर को कितना बड़ा नुकसान पहुंचा रहे हैं। कई स्टडीज में सामने आया है कि अगर व्यक्ति लगातार यूरिन को रोकता रहता है तो उसके बॉडी पार्ट्स को नुकसान हो सकता है जो गंभीर रूप लेते हुए खतरनाक साबित हो सकते हैं।

दर्द
ज्यादा देर यूरिन को रोकने पर ब्लैडर पर प्रेशर बढ़ता है जो दर्द का कारण बन सकता है। यह दर्द किडनी तक भी पहुंच सकता है। इस स्थिति में यदि व्यक्ति सोचे की यूरिन रिलीज करने के बाद उसे दर्द से राहत मिल जाएगी तो ऐसा नहीं होता क्योंकि यूरिन रोकने के कारण उठे दर्द को जाने में काफी टाइम लगता है।

ब्लैडर को नुकसान
बार-बार यूरिन रोकना ब्लैडर के साइज को बढ़ा सकता है और उसकी मसल को स्ट्रेच कर सकता है। इससे यूरिन पर कंट्रोल करने की क्षमता प्रभावित होती है। इतना ही नहीं कई स्थितियों में यूरिन को रिलीज करने में भी ब्लैडर को परेशानी होती है। यह समस्या गंभीर रूप भी ले सकती है और सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है।

यूटीआई
यूरिन रोकने के कारण यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का भी डर रहता है। दरअसल, टॉइलट नहीं जाने पर बैक्टीरिया को बढ़ने का मौका मिल जाता है, जो ब्लैडर के अंदर तक भी पहुंच सकता है। यह संक्रमण बढ़ने पर कई गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है।

किडनी को नुकसान
यूरिन रोकने पर न सिर्फ किडनी पर प्रेशर बढ़ता है बल्कि उस पर स्कार भी बना सकता है जो भविष्य में किडनी संबंधी गंभीर बीमारियों की जड़ बन सकता है। कुछ स्टडीज में कहा गया है कि यूरिन रोकना किडनी स्टोन की वजह भी बन सकता है।