दुनिया कई रहस्यमयी चीजों से भरी हुई है। कुछ रहस्यों को लोगों ने सुलझा लिया तो कुछ रहस्य अभी भी पहेली बने हुए हैं। रहस्य किसी भी चीज से जुड़ी हो सकती है। चाहे वो इंसान के मौत का रहस्य हो या फिर किसी दुर्लभ जीव का पृथ्वी पर पाए जाना। एक ऐसा ही रहस्य एक किताब से जुड़ा हुआ है। जिसे आजतक कोई नहीं पढ़ पाया है।

यह किताब पूरे 240 पन्नों की है। इस किताब के बारे में इतिहासकार बताते हैं कि यह किताब लगभग 600 साल पुरानी है। इस किताब के कार्बन डेटिंग से पता चलता है कि इसको 15वीं सदी में लिखा गया था। इस किताब को हाथ से लिखा गया है। लेकिन उस किताब पर क्या लिखा है, कौन सी भाषा में लिखा है। इस रहस्य को आजतक कोई नहीं सुलझा पाया है।

इस किताब के रहस्य को सुलझाने की हरसंभव कोशिश की जा रही है। इस रहस्यमयी किताब को वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट नाम दिया गया है। इस किताब में इंसानों से लेकर पेड़-पौधों और अन्य कई चीजों की तस्वीरें बनी हुई हैं। इसके अलावा इस किताब में कई ऐसे पेड़-पौधों की तस्वीरें बनी हुई हैं, जो इस पृथ्वी पर मौजूद ही नहीं हैं।

किताब के बारे में कहा जाता है कि इसमें पहले कई और पन्ने होते थे, लेकिन समय के साथ पन्ने खराब होते चले गए। फिलहाल इस रहस्यमयी किताब में 240 पन्ने बचे हुए हैं। हालांकि, इस किताब के बारे में पूरी तरह से तो नहीं पता चल पाया है, लेकिन इतना ज़रूर पता चला है कि किताब में लिखे गए कुछ शब्द लैटिन और जर्मन भाषा में हैं।

इस रहस्यमयी किताब के बारे में कई लोगों का मानना है कि किताब को इस तरह से लिखा गया है कि इसके रहस्य को छिपाया जा सके। अब ऐसा कौन सा रहस्य है, जिसे किताब लिखने वाले ने छिपाने की कोशिश की है, इसका खुलासा तभी हो पाएगा जब कोई इस किताब को पढ़ पाएगा।