रांची

झारखंड की गढ़वा पुलिस ने एक ऐसी ‘मर्डर मिस्ट्री’ को सुलझाया है, जिसका सच जानकर हर कोई हैरान रह गया. दरअसल, पुलिस को राजमार्ग पर एक महिला का शव मिला था. पहली नज़र में ऐसा ही लगा कि महिला की मौत किसी वाहन की चपेट में आकर हुई है. लेकिन महिला के घरवाले और आसपास के लोग इसे हादसा मानने को तैयार नहीं थे.

उन्हें यही शक था कि महिला की हत्या करने के बाद शव को राजमार्ग पर डाला गया. लेकिन जब पुलिस की गहन जांच से गुत्थी खुली तो सच जानकर खुद घरवालों के पैरों के नीचे से ही ज़मीन खिसक गई.

डीएसपी हेडक्वाटर्स गढ़वा, संदीप गुप्ता ने गुरुवार को मीडिया के सामने हत्या के आरोप में गिरफ्तार युवक को पेश किया.साथ ही वारदात से जुड़ी कड़ियों को सिलसिलेवार बताया. महिला का शव गोंडा के निकट राष्ट्रीय राजमार्ग-75 पर मिला था. महिला के घरवालों और स्थानीय लोगों के विरोध जताने के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की. साथ ही एक टीम को घटना की गहन जांच पर लगाया गया.

जांच के दौरान एक सिम कार्ड मिला और उससे हत्या के सारे पेंच सुलझते चले गए. ये सिमकार्ड और किसी का नहीं महिला के ही भतीजे सद्दाम अंसारी का था. 25 वर्षीय सद्दाम रंका थाना क्षेत्र के खपरो गांव का रहने वाला है. 23 वर्षीय महिला तलाकशुदा थी. उसकी शादी सद्दाम के चाचा हबीबुल्ला से हुई थी और बाद में तलाक हो गया. वहीं सद्दाम अपनी चाची की ओर ही आसक्त था.

रिश्ते की मर्यादा को भुलाकर महिला भी भतीजे से ही संबंध बना बैठी. फिर ऐसी स्थिति भी आई महिला भतीजे पर शादी के लिए दबाव बनाने लगी. भतीजा इसके लिए तैयार नहीं था. महिला ने ज्यादा ही दबाव बढ़ाया तो भतीजे ने चाची को रास्ते से हटाने की ठानी. इसके लिए उसने महिला को कोर्ट मैरिज करने का झांसा देकर निर्जन स्थान पर बुलाया.

वहां उसने लोहे की रॉड से महिला के सिर पर प्रहार कर उसकी जान ले ली. बाद में शव को राजमार्ग-75 पर ले जाकर इस तरह फेंक दिया कि देखने वालों को लगे कि उसकी मौत किसी वाहन से कुचल कर हुई है. ‘मर्डर मिस्ट्री’ का खुलासा होने से महिला के घरवाले ही सकते में हैं. उन्होंने सपने में नहीं सोचा था कि हत्यारा उनके घर से ही निकलेगा.