बासेल (स्विट्जरलैंड) 
भारतीय महिला शटलर साइना नेहवाल ने बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड चैंपियनशिप के प्री क्वॉर्टर फाइनल में डेनमार्क की मिया ब्लिचफेल्ट से हारने के बाद अंपायरिंग के स्तर पर निशाना साधा। उन्होंने इसे ‘बेहद ही खराब’ करार दिया। मैच के दौरान आमतौर पर कोर्ट के बाहर बैठने वाले उनके पति और भारतीय खिलाड़ी पारुपल्ली कश्यप ने भी इस करीबी हार के बाद अंपायरिंग पर निराशा व्यक्त की। लंदन ओलिंपिक की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट साइना ने ट्वीट किया, ‘मुझे अब भी विश्वास नहीं हो रहा है, दूसरे गेम में अंपायर ने दो बार मैच पॉइंट को मेरे हक में नहीं दिया। दूसरे गेम के बीच में अंपायर ने मुझ से कहा- लाइन अंपायर को अपना काम करने दें और यह मेरी समझ से परे है कि अंपायर मैच पॉइंट के फैसले को कैसे पलट सकते हैं। बेहद ही खराब।’ 


साइना ने इस टूर्नमेंट में जकार्ता में 2015 में सिल्वर और ग्लास्गो में 2017 में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। आठवीं वरीयता प्राप्त साइना को 12वीं वरीयता प्राप्त ब्लिचफेल्ट ने गुरुवार को एक घंटे 12 मिनट तक चले मैच में 15-21, 27-25, 21-12 से हराया। साइना का मुकाबला जिस कोर्ट पर खेला जा रहा था, वहां लाइव स्ट्रीमिंग की सुविधा भी नहीं थी। ऐसे में विडियो रेफरल का विकल्प नहीं था। इससे पहले कॉमनवेल्थ गेम्स (2014) के चैंपियन कश्यप ने ट्विटर पर लिखा, ‘खराब अंपायरिंग के कारण दो मैच पॉइंट छीन लिए गए और कई गलत फैसले दिए गए।’ उन्होंने कहा, ‘यह अविश्वसनीय है कि वर्ल्ड चैंपियनशिप में कई कोर्ट पर रिव्यू (अंपायर निर्णय समीक्षा प्रणाली) की सुविधा मौजूद नहीं है। हमारे खेल में कब सुधार आएगा? निराशाजनक।’