सतना
 किस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए काम कर रहे 5 आरोपियों को बुधवार रात क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार किया।पकड़े गए लोगों के पास से 17 पाकिस्तानी मोबाइल फोन के नंबर मिले हैं।  पुलिस के मुताबिक, टीम ने अलग-अलग जगह दबिश देकर यह गिरफ्तारी की। आरोपियों में बलराम सिंह, भागवेंद्र सिंह, सुनील सिंह, शुभम तिवारी और एक अन्य शामिल हैं। वही आतंक निरोधक दस्ते (एटीएस) की टीम भी सतना पहुंच गई है। सतना पुलिस ने मामले की जानकारी उच्च अधिकारियों को भी दे दी है।

दरअसल, भोपाल से आई एसटीएफ की टीम ने सतना में बैठकर देश भर में टेरर फंडिंग कर रहे ऐसे पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के नाम- बलराम सिंह, सुनील सिंह, शुभम तिवारी, भार्गवेन्द्र सिंह और उनका एक साथी है। ये सभी आरोपी सतना के रहने वाले हैं।इनमें बलराम वही है जिसे भोपाल एटीएस ने 8 फरवरी 2017 को गिरफ्तार किया था। वहीं, भागवेंद्र को इंदौर एसटीएस ने गिरफ्तार किया था। सुनील 2014 से देश विरोधी गतिविधियों में सक्रिय था, लेकिन एटीएस उसे पकड़ नहीं पाई। आरोपियों के पास से फोन और लैपटॉप बरामद किया गया है। उनके पास 17 पाकिस्तानी नंबर मिले। ये लोग आतंकियों के फंड मैनेजर से वीडियो-मैसेंजर कॉल और वॉट्सऐप चैटिंग करते थे।  फिर बैंक खातों में पैसा जमा कराकर उसे आतंकियों तक पहुंचाते थे। बताया जा रहा है कि आरोपी बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ से जुड़े संदिग्ध लोगों को बैंक खातों और हवाला के जरिए कमीशन बेस पर पैसे ट्रांसफर करते थे।STF की टीम अब पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर काम कर रहे इन आरोपियों से आतंकियों को फंडिंग करने के मामले में विस्तार से पूछताछ कर रही है। जांच में भोपाल ATS के साथ सतना पुलिस भी शामिल है।

बीजेपी ने सरकार को घेरा

वही इस घटनाक्रम के बाद बीजेपी ने कमलनाथ सरकार पर हमला बोला है।बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था धराशायी हो चुकी है, इसलिए आंतक पैर पसार रहा है।