ग्रेटर नोएडा
8 महीने के दीपक की हत्या के मामले में अब चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। पता चला है कि मां ने ही दीपक को चुन्नी से गला घोंटकर मार दिया था। बता दें कि इस मामले में अबतक मां कहती रही थी कि उसके बेटे की चारपाई से गिरने से मौत हो गई थी, जिसे उसने अपने घरवालों से छिपाया था। यह मामला जेवर कोतवाली क्षेत्र के गोपालगढ़ गांव का है। 8 महीने के दीपक का शव पड़ोस के खाली प्लॉट से मिला था।

पति के तानों से परेशान थी महिला

महिला के चरित्र पर संदेह कर उसका पति ताने देता था। वह उस बच्चे को अपना भी नहीं मानता था। इसी वजह से उसने अपने बेटे की चुन्नी से गला घोंटकर हत्या कर दी। शव को 11 दिनों तक गेहूं की टंकी में छुपाकर रखा था। दुर्गंध आने लगी तो घर के पास एक प्लॉट में फेंक दिया। सूरजपुर स्थित एसएसपी ऑफिस में गुरुवार को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसपी देहात रणविजय सिंह ने यह खुलासा किया। वारदात में महिला, उसके पति और ससुर को गिरफ्तार किया गया है।

एसपी देहात ने बताया कि 11 अगस्त को रोहदास ने सूचना दी थी कि उसके 8 महीने के बेटे दीपक का अपहरण हो गया है। घर की स्थिति देखकर पुलिस को अपहरण होने की बात पर विश्वास नहीं हुआ। इस बीच बच्चे का शव मिला तो उसके गले में चुन्नी लिपटी हुई थी। पुलिस का संदेह पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद पुख्ता हो गया।

बच्चे की मां हेमा से सख्ती से पूछताछ हुई तो उसने हत्या की बात कबूल कर ली। हेमा ने पुलिस को बताया कि पति के तानों से परेशान होकर उसने अपने बेटे की गला घोंटकर हत्या कर दी थी। पति-पत्नी दोनों एक दूसरे के चरित्र पर संदेह करते थे।

पहले यह गढ़ी थी कहानी
बच्चे की मां हेमा ने पहले कहानी बताई की वह पशुओं को चारा डालने गई थी। इसी दौरान बच्चा चारपाई से गिरा और उसकी मौत हो गई। घरवाले इस गलती पर उसकी पिटाई न करें, इसलिए बच्चे के शव को अनाज की टंकी में छिपा दिया था।