लंदन
भारत की बहिष्कार की धमकी के बावजूद राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) के प्रमुख लुई मार्टिन ने कहा कि निशानेबाजी 2022 बर्मिंघम खेलों का हिस्सा नहीं होगी। यह 1974 के बाद पहला मौका होगा जब निशानेबाजी को राष्ट्रमंडल खेलों में जगह नहीं मिलेगी लेकिन सीजीएफ अध्यक्ष ने कहा कि निशानेबाजी कभी इन खेलों का अनिवार्य हिस्सा नहीं था। मार्टिन ने ब्रिटेन के ‘डेली टेलीग्राफ’ से कहा कि एक खेल को इन खेलों का हिस्सा बनने का अधिकार हासिल करना होगा। उन्होंने कहा कि निशानेबाजी कभी अनिवार्य खेल नहीं रहा। हमें इस पर काम करना होगा लेकिन निशानेबाजी खेलों का हिस्सा नहीं होगा। हमारे पास अब कोई जगह नहीं बची है।

राष्ट्रमंडल खेलों में निशानेबाजी हमेशा से भारत का मजबूत पक्ष रहा है। गोल्ड कोस्ट में पिछले खेलों में भारत ने निशानेबाजी में सात स्वर्ण सहित 16 पदक जीते थे। इस कदम का विरोध करते हुए भारत ने 2022 खेलों के बहिष्कार की धमकी दी थी। भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष नंिरदर बत्रा ने इस संबंध में खेल मंत्री कीरेन रीजीजू से स्वीकृति मांगी है। खबर के अनुसार बर्मिंघम ने निशानेबाजी की दो स्पर्धाओं के आयोजन की पेशकश की थी लेकिन अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी खेल महासंघ (आईएसएसएफ) ने इसे ठुकरा दिया। आईएसएसएफ चाहता है कि निशानेबाजी को पूर्ण रूप से खेलों में शामिल किया जाए।