Friday, June 22nd, 2018

रायपुर में राहुल ने केंद्र पर लगाया तानाशाही का आरोप

रायपुर

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को मोदी सरकार पर तानाशाही रवैया अपनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के चार जजों को जनता के सामने अपनी बात रखने के लिए आना पड़ा। उन्होंने कहा कि प्रेस के साथ-साथ भाजपा सांसद भी प्रधानमंत्री मोदी से डरते हैं।

राजधानी रायपुर में राजीव गांधी पंचायती राज सम्मेलन को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने किसानों की कर्ज माफी के मुद्दे पर वित्तमंत्री अरूण जेटली पर भी निशाना साधा। इसके अलावा राहुल गांधी ने कहा कि देश की संवैधानिक संस्थाओं को मोदी सरकार आरएसएस के लोगों से भर रही है, लेकिन कांग्रेस के शासनकाल में कभी ऐसा नहीं किया गया। सरकार का ऐसा तानाशाही रवैया सिर्फ पाकिस्तान और अफ्रीकी देशों में ही देखने को मिलता है।

राहुल गांधी ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का नाम लिए बगैर आरोप लगाया कि एक हत्या के मुकदमे का आरोपी व्यक्ति देश की एक राष्ट्रीय पार्टी का अध्यक्ष है। इस कार्यक्रम में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल, प्रदेश प्रभारी पीएल पुलिया सहित कई कांग्रेसी नेता मौजूद हैं। कार्यक्रम में आदिवासी नेता अरविंद नेताम भी मौजूद हैं, जो आज कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं।

इस कार्यक्रम के बाद राहुल गांधी सीतापुर, सरगुजा संभाग के लिए रवाना हुए। यहां कृषक और आदिवासी सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने मोदी सरकार को जमकर घेरा। राहुुल ने कहा कि मोदी सरकार ने दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन अब तक नहीं दिया है।

देश के अनेक राज्यों में दलितों व आदिवासियों को मारा पीटा जा रहा है। हर प्रदेश का किसान कर्ज माफी चाहता है लेकिन सरकार किसानों के लिए कुछ नहीं कर रही है। किसानों के लिए जो भी योजनाएं चलाई जा रही है उसका कोई लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है। इसके बाद राहुल गांधी ने बिलासपुर के पास कोटमी में भी जनसभा को संबोधित किया। यहां भी राहुल गांधी ने किसानों और आदिवासियों का मुद्दा उठाते हुए केंद्र सरकार को जमकर कोसा।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

12 + 9 =

पाठको की राय