Sunday, September 23rd, 2018

चेन्नै सुपर किंग्स को फील्डिंग में सुधार की जरूरत: सुरेश रैना

गुरुग्राम 
अनुभवी ऑलराउंडर सुरेश रैना का मानना है कि आईपीएल में उनकी टीम चेन्नै सुपर किंग्स को फील्डिंग में सुधार करने की जरूरत है। रैना की जगह टीम इंडिया में अब पक्की हो या न हो, लेकिन चेन्नै सुपर किंग्स में उन्हें हमेशा 'घर' नजर आता है। आईपीएल के 11वें सीजन में सीएसके से खेल रहे रैना शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं और उन्होंने खुद को एक टॉप ऑर्डर बल्लेबाज के तौर पर साबित भी किया है। रैना ने कहा, 'हमने इस सीजन में शानदार प्रदर्शन किया है और टीम के खिलाड़ी काफी बेहतर कर रहे हैं। सभी अपनी जिम्मेदारी समझ रहे हैं और टीम एक चैंपियन की तरह खेल रही है। हमने अपने मैच 'निडर' होकर खेले हैं।' महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नै टीम प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ कर चुकी है। 

31 वर्षीय रैना ने कहा, 'मुझे लगता है कि हमें फील्डिंग में सुधार करने की जरूरत है, इस क्षेत्र में हमारे कोच और कैप्टन भी सुधार करने के बारे में कहते हैं। हमें कैच लपकने के साथ-साथ ज्यादा रन आउट की तरफ भी ध्यान देना होगा।' चेन्नै टीम 2 बार आईपीएल ट्रोफी और 2 बार चैंपियंस लीग टी20 खिताब अपने नाम कर चुकी है। टीम के अहम सदस्य रैना ने 172 मैचों में कुल 4855 रन बनाए हैं। 

फिफ्टी जड़ने के बाद सुरेश रैना
आईपीएल में रैना का औसत करीब 34 का है और स्ट्राइक रेट 140 के आसपास का है। उन्होंने कहा, 'अब जब प्लेऑफ में हम जगह पक्की कर चुके हैं, ऐसे में अब सतर्क होकर खेलना होगा और बिलकुल चैंपियन की तरह प्रदर्शन करना होगा, जो हम हैं। टूर्नमेंट का असली टेस्ट तो अब शुरू होगा।'  यूपी के इस खिलाड़ी ने कहा, 'अब जबकि हर टीम तीसरे-चौथे स्थान के लिए लड़ रही है तो ऐसे में हमारे लिए आसानी नहीं होगी। उम्मीद करते हैं कि हम मुंबई में इस सीजन का फाइनल मुकाबला खेलें।' सीजन की शुरुआत में रैना को चोट लग गई थी लेकिन फिर उन्होंने कमाल के अंदाज में वापसी की और 3 अर्धशतक भी जड़े। 

रैना ने कहा, 'इस सीजन में मेरा प्रदर्शन अच्छा रहा है। एक मैच चोट की वजह से नहीं खेल सका। तब जरूर कुछ परेशान हुआ था क्योंकि ठीक होने में कम से कम 3 सप्ताह का समय लग सकता था। अब जब भी खेलता हूं तो पिंडली की चोट का खास ख्याल रखना पड़ता है। मैं अच्छा खेल रहा हूं लेकिन सबसे ज्यादा खुशी टीम के क्वॉलिफाइ करने को लेकर है। बस कुछ मैच और फिर चैंपियन बन सकते हैं।' उन्होंने टीम स्टाफ, बल्लेबाजी कोच माइकल हसी और कप्तान एमएस धोनी की भी तारीफ की।  साल 2016 और 2017 रैना के करियर में सबसे मुश्किल रहे। वह टीम इंडिया से बाहर चल रहे थे और उनकी टीम चेन्नै सुपर किंग्स भी 2 साल के लिए निलंबित थी। ऐसे में उन्होंने नई टीम गुजरात लॉयंस की कमान संभाली और शानदार प्रदर्शन करते हुए क्रमश: 399 औ र 44र रन बनाए। 2017 सीजन में तो उनकी टीम लीग तालिका में टॉप पर रही। 

रैना ने कहा, 'गुजरात टीम की कप्तानी करने से मेरे गेम में काफी सुधार हुआ। मैंने भारतीय टीम की कप्तानी संभाली है, यूपी टीम का नेतृत्व किया है, एयर इंडिया और अब आईपीएल। मुझे लगता है कि सबसे अच्छी बात गुजरात टीम की यही रही कि इसमें सीएसके के खिलाड़ी जैसे ब्रेंडन मैकलम, ड्वेन ब्रावो भी रहे। इसलिए टीम के तौर पर ज्यादा कुछ नहीं बदला था। जब मैं गुजरात टीम में था तो मैं इन क्वालिटी प्लेयर्स के साथ बैठता, टीम बनाता और फैसले लेता। सभी मेरी हर तरह से मदद करने को तैयार रहते।' 

Source : agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

13 + 14 =

पाठको की राय