Monday, May 28th, 2018

ईयू चीफ बोले, 'ट्रंप जैसे दोस्त हों तो दुश्मन की क्या जरूरत'

सोफिया, बुल्गारिया
ईरान डील से बाहर निकलने और व्यापार युद्ध को बढ़ावा देने के बाद अब अमेरिका के दोस्त ही उनसे नाराज दिख रहे हैं। यूरोपियन यूनियन के चेयरमैन ने बुधवार को एक बैठक के दौरान कहा कि जिनके पास डॉनल्ड ट्रंप जैसे दोस्त हों, उन्हें दुश्मनों की क्या जरूरत है?

    २८ देशों के नेता बुधवार को बुल्गारिया की राजधानी में रात्रिभोज पर मिले थे, ताकि इसपर चर्चा की जा सके कि बचे-खुचे ईरान समझौते को कैसे सुरक्षित रखा जाए और यूरोपिय देशों के ईरान के साथ व्यापार को ट्रंप के प्रतिबंधों के बाद कैसे आगे बढ़ाया जाए ताकि ट्रेड वॉर से बचा जा सके।

यूरोपियन यूनियन के चेयरमैन डॉनल्ड टस्क ने कहा कि ट्रंप के फैसलों से निपटने के लिए यूरोपियन यूनियन को पहले से भी ज्यादा एकता दिखानी होगी। टस्क ने न्यूज कॉन्फ्रेंस में कहा, 'राष्ट्रपति ट्रंप के हालिया फैसलों को देखते हुए कोई यह भी सोच सकता है कि ट्रंप जैसे दोस्तों के होने पर किसी को दुश्मन की क्या जरूरत?'

इससे आगे उन्होंने कहा, 'स्पष्ट तौर पर कहूं तो, यूरोप को राष्ट्रपति ट्रंप का आभारी होना चाहिए। क्योंकि हमें सभी तरह के भ्रमों से छुटकारा मिला।'

बता दें कि ट्रंप की 'अमेरिका फर्स्ट' नीति से यूरोपियन नेताओं की मुसीबतें लगातार बढ़ रही हैं। फिर वह पैरिस जलवायु समझौते से अमेरिका का बाहर निकलना हो या 2015 में हुए ईरान परमाणु समझौते से अमेरिका का अलग होना। ट्रंप के फैसलों ने यूरोप की अपनी विदेश नीति के लिए खतरा पैदा कर दिया है।

टस्क ने कहा, 'यूरोप को अपनी सुरक्षा के लिए शक्ति अनुसार सबकुछ करना चाहिए। हमें उस स्थिति के लिए भी तैयार रहना होगा जब अपने दम पर सबकुछ करने की नौबत आ जाएगी।'

इस हफ्ते अमेरिकी दूतावास को इजरायल से यरुशलम शिफ्ट करने से भी कई यूरोपिय देश नाराज थे, हालांकि, ईयू इसका खुलकर विरोध इसलिए नहीं कर पाया क्योंकि इजरायल समर्थक देश चेक गणराज्य और हंगरी ने अमेरिका के फैसले के समर्थन में थे।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

14 + 15 =

पाठको की राय