नई दिल्ली
 दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष शीला  दीक्षित की मौत की खबर सुनकर शनिवार को उनके समर्थक शोक में डूब गए। शीला दीक्षित के निजामुद्दीन ईस्ट स्थित उनके आ‌वास पर बड़े नेताओं और कार्यकर्ताओं का तांता लग गया। शनिवार देर रात तक उनके आवास पर बड़ी संख्या में समर्थक जुटे रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत सभी दलों के बड़े नेताओं ने उनके निधन पर शोक प्रकट किया है। रविवार दोपहर बाद ढाई बजे निगम बोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। अस्पताल में शीला दीक्षित के मौत की खबर सुनने के बाद शनिवार शाम प्रदेश कांग्रेस और राष्ट्रीय कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस का झंडा झुका दिया गया। अस्पताल से शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर घर पहुंचा तो वहां पहले से ही बड़ी संख्या में हां समर्थक मौजूद थे।

शीला दीक्षित के अंतिम यात्रा के दौरान रिंग रोड पर कश्मीरी गेट बस अड्डे, चंदगीराम अखाड़े के आसपास जाम की स्थिति बन सकती है। अंतिम संस्कार से पहले पार्थिव शरीर को सुबह 11:30 बजे अकबर रोड स्थित कांग्रेस के राष्ट्रीय कार्यालय में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। शीला दीक्षित के अंतिम संस्कार के समय जाम लग सकता है। कांग्रेस मुख्यालय पर उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा, जिससे इंडिया गेट के आस-पास के मार्गों पर ट्रैफिक की समस्या हो सकती है। इसके लिए ट्रैफिक पुलिस की ओर से लोगों के लिए एडवाइजरी जारी कर दी गई है। यातायात पुलिस ने इंडिया गेट और निगमबोध घाट के आस-पास सड़कों के इस्तेमाल से बचने की सलाह दी है।