दिल्ली 
नौ साल की मासूम बच्ची कमरे में अचेत पड़ी थी। बगल में 11 महीने की बहन खेल रही थी। यह देख माता-पिता बेहोशी की हालत में तुरंत बेटी को एक प्राइवेट अस्पताल में ले गए, जहां डॉक्टरों ने बताया कि उसकी मौत हो चुकी है। पुलिस ने पोस्टमॉर्टम कर बॉडी परिजनों को सौंप दी है। शुरुआती जांच में मामला रेप की कोशिश और गला दबाकर मर्डर करने का सामने आया है। पुलिस ने आरोपी पीजी के ठेकेदार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, आरोपी शकरपुर इलाके में एक बॉयज पीजी (पेइंग गेस्ट हाउस) चलाता है। पीड़ित परिवार इसी पीजी में रहता है। मृतक बच्ची के अलावा परिवार में माता-पिता, तीन बड़े भाई और छोटी बहन हैं। माता-पिता पीजी में काम करते हैं। इस पीजी में करीब 30-35 लड़के रहते हैं। पीड़ित परिवार इसी मकान के बेसमेंट पर बने छोटे कमरे में रहता है। शुक्रवार दोपहर करीब 12 बजे मां ऊपरी मंजिल पर काम कर रही थी। इस दौरान पिता बाहर से घर लौटे तो बच्ची को 11 माह की बहन के पास अचेत हालत में पड़ा पाया। तुरंत इलाज के लिए नजदीक के नर्सिंग होम ले गए, जहां डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया। सूचना पुलिस को दी गई। शनिवार दोपहर पोस्टमॉर्टम के बाद बॉडी परिजनों के हवाले कर दिया। 

आसपास के लोगों का कहना है कि आरोपी नाम बदलकर रह रहा था। पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया तो उसकी पहचान उजागर हुई। पुलिस का कहना है कि आरोपी का पिछला कोई क्रिमनिल रिकॉर्ड भी नहीं है। पूछताछ में खुलासा हुआ है कि नौ साल की मासूम ने रेप का विरोध किया तो उसकी गला घोटकर हत्या कर दी गई। पुलिस सूत्रों का कहना है कि शुरुआती जांच में रेप के प्रयास और गला घोंटकर हत्या की बात सामने आई है। रेप हुआ या नहीं, इसका खुलासा पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही होगा।