आगरा
भारतीय ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष डॉ नरेंद्र ध्रुव बत्रा ने कहा है कि उनकी नजरें अगले साल के टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी संख्या में पदक जीतने पर टिकी हुई हैं। बत्रा ने उसके सम्मान में भारतीय एथलेटिक्स महासंघ द्वारा आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही। एथलेटिक्स महासंघ ने बत्रा को अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति का सदस्य चुने जाने की उपलब्धि के लिए सम्मानित किया। यह सम्मान समारोह एथलेटिक्स महासंघ की यहां आयोजित वार्षिक आम बैठक के दौरान आयोजित किया गया। भारतीय ओलम्पिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें एथलेटिक्स सितारों से काफी उम्मीदें हैं। उन्होंने कहा कि हम 2026 के युवा ओलम्पिक खेलों, 2030 के एशियाई खेलों और 2032 के ओलम्पिक खेलों की मेजबानी की योजना बना रहे हैं। जब तक हमारे एथलीट पदक जीतना शुरू नहीं करेंगे तब तक लोग इन आयोजनों की दावेदारी के लिए हमारा समर्थन नहीं करेंगे क्योंकि ऐसे आयोजनों की मेजबानी में बड़ा खर्चा होता है। बत्रा ने कहा कि हम 2020 के टोक्यो ओलम्पिक खेलों में दोहरी पदक संख्या, 2024 ओलम्पिक में 25 पदक और 2028 में 40 पदक जीतने की उम्मीद कर रहे हैं। जब तक हम अपने लिए लक्ष्य निर्धारित नहीं करेंगे तब तक हम वहां नहीं पहुंच पाएंगे। हमें कुश्ती, मुक्केबाजी, बैडमिंटन, टेबल टेनिस, निशानेबाजी, एथलेटिक्स और हॉकी में पदक की उम्मीद है।