पटना
बिहार में बाढ़ का तांडव जारी है. बाढ़ त्रासदी में अब तक बिहार के 138 लोगों की मौत हो गई है, जबकि मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है. आधिकारिक आंकड़ों की बात करें तो आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक बाढ़ से मरने वालों की संख्या 92 हो गई है.

राज्य के 12 जिले में 102 प्रखंडों के 1107 पंचायत बाढ़ग्रस्त हैं जबकि 66 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हैं. 131 राहत शिविरों में 1 लाख 14 हजार 721 लोग रहने को विवश हैं. 1032 सामुदायिक रसोई से लोगों को भोजन दिया जा रहा है.

मौत के आंकड़ों की बात करें तो पूर्वी चंपारण में बाढ़ से अब तक 37 लोगों की मौत हुई है जबकि सीतामढ़ी में बाढ़ से 23 लोगों की जान गई है. वहीं अररिया, पूर्णिया और मधुबनी में बाढ़ से होने वाली मौत का आंकड़ा तीनों जगह 14-14 हैं. दरभंगा में बाढ़ से अब तक 11 लोगों की मौत हो गई है जबकि शिवहर में 10 लोगों के मरने की खबर है.

सरकारी आंकड़ों की बात करें तो बिहार सरकार ने अब तक 92 लोगों के मौत की पुष्टि की है. बिहार का पूर्वी चंपारण जिला बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित है. इसके अलावा शिवहर, सीतामढ़ी, मधुबनी, अररिया, किशनगंज, सुपौल, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, सहरसा, कटिहार और पूर्णिया में भी बाढ़ है.