इस वर्ष 17 जुलाई से श्रावण माह की शुरुआत हुई जो 15 अगस्त तक रहने वाला है। हिंदू पंचांग में ये साल का पांचवा महीना है और इस माह में शिव की आराधना का फल अवश्य मिलता है। भगवान शिव को प्रिय इस विशेष माह में भक्त उन्हें प्रसन्न करने के लिए हर प्रकार की कोशिशें करते हैं।


कई शिव भक्त इस मौके पर मुख्य 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन के लिए जाते हैं, तो कई कावड़ यात्रा के लिए निकलते हैं। वहीं जिन लोगों को ये मौका नहीं मिल पाता है वो शिव मंदिर में जाकर उनकी आराधना और पूजा करते हैं। आज इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि आप सावन के महीने में भोले बाबा को प्रसन्न करने के लिए अपनी राशि के अनुसार कौन से मंत्रों का जाप कर सकते हैं।

मेष राशि
मेष राशि के जातकों के लिए आने वाला समय थोड़ा उतार चढ़ाव भरा हो सकता है। आपको शिव के अघोर मंत्र का जाप करना चाहिए।
ऊं अघोरेभ्यो अथ घोरेभ्यो, घोर घोर तरेभ्यः

सर्वेभ्यो सर्व शर्वेभ्यो, नमस्ते अस्तु रूद्ररूपेभ्य।
पूरे सावन माह में आप रोजाना 11 बार इस मंत्र का जाप करें।

वृषभ राशि
वृषभ राशि के शिवभक्तों को सावन महीने में इस मंत्र का जाप करना चाहिए- ऊं शं शंकराय भवोद्भवाय शं ऊं नमः।।
आप प्रतिदिन 108 बार इस मंत्र का जाप करें, लाभ मिलेगा।

मिथुन राशि
मिथुन राशि के जातक जो शिवजी की कृपा पाना चाहते हैं उन्हें रोजाना 'ऊं नमः शिवाय' मंत्र 108 बार जपना चाहिए। भोलेनाथ का आशीर्वाद जरूर मिलेगा।

कर्क राशि
कर्क राशि के जातकों के लिए सावन माह काफी अच्छा रहेगा। आप शिवजी के प्रिय इस महीने में 'ऊं शं शिवाय शं ऊं नमः' मंत्र का जाप करें। महादेव की विशेष कृपा के लिए आपको इस पूरे महीने कुल 5100 बार इस मंत्र का जप कर लेना है।


सिंह राशि
सिंह राशि के शिव भक्त सावन महीने में इस स्तुति का जाप करें।
नमामीशमीशान निर्वाण रूपं।
विभुं व्यापकं ब्रह्म वेद स्वरूपं।।
प्रतिदिन 21 बार इस स्तुति के जाप से आपके सभी काम पूरे होंगे।

कन्या राशि
इस राशि के जातक नीलकंठ की कृपा पाने के लिए त्र्यम्बकं मंत्र का जाप करें।
ऊं त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्
उर्वारूकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्
कन्या राशि के लिए ये मंत्र काफी लाभकारी है और आपको प्रतिदिन 31 बार इसका जप करना है।

तुला राशि
सावन माह में तुला राशि के लोगों को 'ऊं शं भवोद्भवाय शं ऊं नमः' मंत्र का जाप रोजाना 51 बार करना चाहिए।

वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि के जातक सावन माह में इस मंत्र का जाप रोजाना 11 बार करें। आपको निश्चित ही लाभ मिलेगा।
निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं।
चिदाकाशमाकाश वासं भजेहं।।

धनु राशि
अगर आप सावन के महीने में भोलेनाथ को प्रसन्न करना चाहते हैं तो उनके इस मंत्र का जाप करें। इस बात का ध्यान रखें कि आप मंत्रोच्चारण से पहले शिवजी के सामने आसन लगाकर बैठे और उनका ध्यान करें।

ऊं ऐं ह्रीं क्लीं आं शं शंकराय मम सकल जन्मांतरार्जित पाप विध्वंसनाय

श्रीमते आयुः प्रदाय, धनदाय, पुत्रदारादि सौख्य प्रदाय महेश्वराय ते नमः कष्टं घोर भयं वारय वारय..

पूर्णायुः वितर वितर मध्ये मा खण्डितं कुरु कुरु सर्वान् कामान् पूरय पूरय शं आं
क्लीं ह्रीं ऐं ऊं सम संख्याम सावित्रीम् जपेत् ऊं तत्पुरुषाय च विद्महे महादेवाय च धीमहे
पूर्णायुः वितर वितर मध्ये मा खण्डितं कुरु कुरु सर्वान् कामान् पूरय पूरय शं आं
क्लीं ह्रीं ऐं ऊं

मकर राशि
मकर राशि के जातकों के लिए 'ऊं शं विश्वरूपाय अनादि अनामय शं ऊं' मंत्र शुभदायी होगा। आप रोजाना 111 बार इसका जप करें।

कुंभ राशि
श्रावण मास में कुंभ राशि वालों के लिए शिवजी का ये मंत्र बेहद लाभकारी रहेगा।

ऊं क्लीं क्लीं क्लीं वृषभारूढ़ाय वामांगे गौरी कृताय क्लीं क्लीं क्लीं ऊं नमः शिवाय।।

आप पूरे सावन माह में रोजाना 21 बार इस मंत्र का जाप करें।

मीन राशि
मीन राशि के वो लोग जो शिव की खास कृपा पाना चाहते हैं वो 'ऊं शं शं शिवाय शं शं कुरु कुरु ऊं' मंत्र का जाप इस पूरे माह में कुल 11 हजार बार करें।