नई दिल्ली

पाकिस्तान की जेल में कैद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) के फैसले के बाद आज (गुरुवार) विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने संसद में बयान दिया. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि आईसीजे ने भारत के इस दावे को सही ठहराया कि पाकिस्तान कई मामलों में वियना कन्वेंशन का उल्लंघन कर रहा है.

उन्होंने कहा कि हम एक बार फिर पाकिस्तान से कुलभूषण जाधव को रिहा करने और वापस भेजने की मांग कर रहे हैं. विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि कुलभूषण जाधव की जल्द रिहाई और भारत वापसी की कोशिश जारी रखेंगे.

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाते हुए पाकिस्तान को इस मामले पर पुनर्विचार करने के लिए कहा है. कुलभूषण जाधव के मामले में आईसीजे की ओर से भारत के पक्ष में सुनाए गए फैसले का विपक्ष समेत पूरे देश ने स्वागत किया.

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अंतरराष्ट्रीय अदालत में इस केस को प्रभावी तरीके से पेश करने वाले हरीश साल्वे को धन्यवाद देते हुए इसे देश की महान जीत बताया.

गौरतलब है कि कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान के खिलाफ जासूसी और साजिश के आरोप में मौत की सजा सुनाई गई थी. आईसीजे ने अपने आदेश में पाकिस्तान को जाधव को फांसी नहीं देने का निर्देश देते हुए इस फैसले पर दोबारा विचार करने को कहा है.

अंतरराष्ट्रीय अदालत ने पाकिस्तान को जाधव को राजनयिक संपर्क देने का भी निर्देश दिया और कहा कि उनको इस अधिकार से वंचित करके पाकिस्तान ने वियना संधि का उल्लंघन किया है.