Friday, October 19th, 2018

मंगल के आसमान पर हेलिकॉप्टर उड़ाएगा नासा

वॉशिंगटन
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने शुक्रवार को बताया कि वह 2020 मिशन के तहत मंगल ग्रह पर छोटा हेलिकॉप्टर भेजेगा। मिशन के तहत नासा मंगल की सतह पर नेक्स्ट जेनरेशन रोवर भेजेगा। यह पहली बार होगा जब किसी और ग्रह पर इस तरह का विमान इस्तेमाल किया जाएगा।

रिमोट से चलने वाला मार्स हेलिकॉप्टर, इस तरह से डिजाइन किया गया है ताकि वह मंगल के पतले वायुमंडल में उड़ान भर सके। इस यान में दो काउंटर रोटेटिंग ब्लेड होंगे और इसका वजन करीब 4 पाऊंड यानी 1.8 किलोग्राम होगा। नासा ने बताया कि इस यान का ढांचा एक गेंद जैसा होगा। इसके ब्लेड तकरीबन 3000 आरपीएम की गति से घूमेंगे, जो कि पृथ्वी पर चल रहे हेलिकॉप्टर की तुलना में 10 गुना तेज है।

नासा के जेट प्रपलज़न लैबरेटरी में मार्स हेलिकॉप्टर प्रॉजेक्ट की मैनेजर मिमी आंग कहती हैं, 'धरती पर अभी तक हेलिकॉप्टर ने 40 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भरी है। मंगल का वायुमंडल सिर्फ 1 प्रतिशत ही पृथ्वी जैसा है, इसलिए जब हमारा हेलिकॉप्टर मंगल की सतह पर होगा तो वह जितनी ऊंचाई पर होगा वह पृथ्वी से 1 लाख फीट ऊंचाई के बराबर होगा।'

नासा के अधिकारियों ने बताया कि रोटरक्राफ्ट लाल ग्रह की सतह पर एक गाड़ी के आकार के यान के साथ जाएगा। हेलिकॉप्टर को सतह पर छोड़ने के बाद, यह यान एक सुरक्षित दूरी से कमांड देता रहेगा। नासा ने बताया कि पृथ्वी पर नियंत्रक इस हेलिकॉप्टर को तब मंगल के लिए रवाना करेंगे जब इसकी बैटरियां चार्ज हो जाएंगी और परीक्षण पूरे हो जाएंगे।

नासा के ऐडमिनिस्ट्रेटर ब्रिडेनस्टीन ने एक बयान में कहा, 'किसी दूसरे ग्रह के आसमान पर हेलिकॉप्टर उड़ने का विचार काफी रोमांचकारी है।' इस हेलिकॉप्टर को भेजने का मकसद मंगल ग्रह पर ऐसे विमानों की उपयोगिता के बारे में पता लगाना है।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

4 + 8 =

पाठको की राय