बेंगलुरू 
 
कर्नाटक में बीते 15 दिन से जारी सियासी संग्राम आज खत्म हो सकता है. गुरुवार को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है, इससे साफ हो जाएगा कि एचडी कुमारस्वामी की सरकार बचेगी या नहीं. सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर को बागी विधायकों के इस्तीफे या अयोग्य किए जाने पर फैसला लेने की छूट दे दी थी. बीजेपी, कांग्रेस और जेडीएस दावा कर रही है कि उनके पास बहुमत है.

कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी सरकार का आज यानी गुरुवार को शक्ति परीक्षण है. कांग्रेस और जेडीएस सरकार पर संकट का ये बादल 16 विधायकों के बगावत से मंडरा रहा है, हालांकि एक बागी विधायक ने सरकार के पक्ष में वोट करने का ऐलान किया है, जबकि बाकी बागी विधायकों का दावा है कि उन्हें बीजेपी ने साईं बाबा की कसम दिलाई है.

इस बीच कुमारस्वामी सरकार बचाने के लिए आखिरी कोशिश भी जारी है. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के करीबी एमएलसी बीएम फारूक ने अपने खास शाहिद को मुंबई भेजा है. शाहिद ने मुंबई के होटल में जाकर जेडीएस के बागी विधायकों और रमेश जारकीहोली से मुलाकात की. हालांकि, इस मुलाकात के बाद बागी विधायकों का क्या रुख है, ये नहीं अभी साफ नहीं है.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपने फैसले में ये कहकर कुमारस्वामी सरकार को तगड़ा झटका दे दिया कि बागी विधायकों पर व्हिप लागू नहीं होगा. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर रमेश कुमार को अधिकार दिया कि वह विधायकों के इस्तीफे पर फैसला लें. इस बीच सबकी निगाहें स्पीकर के फैसले पर भी टिकी हैं.

इन 15 बागी विधायकों की किस्मत का होगा फैसला

जिन 15 विधायकों ने स्पीकर को अपना इस्तीफा सौंपा है, उसमें कांग्रेस-जेडीएस के एच विश्वनाथ, आर रोशन बेग, रमेश झारखोली, आनंद सिंह, एस टी सोमशेखर, बैराठी बसवराज, एन मुनिरत्न, बी सी पाटिल, प्रताप गौड़ा पाटिल, शिवराम हेब्बर, महेश कुमताहल्ली, एम टी बी नागराज, के सुधाकर, नारायण गौड़ा, के गोपालैया शामिल है. हालांकि, कांग्रेस के बागी विधायक रामलिंगा रेड्डी ने सरकार के पक्ष में वोट करने का ऐलान किया है.

119 विधायकों के समर्थन से बनी थी कुमारस्वामी सरकार

कर्नाटक के सीएम कुमारस्वामी बहुमत साबित कर पाएंगे या नहीं, इसे जानने के लिए कर्नाटक के नंबर गेम को समझना होगा. 224 सदस्यों की विधानसभा में कुमारस्वामी को 119 विधायकों का समर्थन हासिल था, जिसमें स्पीकर को मिलाकर कांग्रेस के 79, जेडीएस के 37, बीएसपी के एक और निर्दलीय 2 विधायक शामिल थे. जबकि बीजेपी के पास 105 विधायकों की ताकत थी.

बगावत के बाद अल्पमत में कुमारस्वामी सरकार

अब 16 विधायकों की बगावत और दो निर्दलीय के बीजेपी खेमे में जाने के बाद अब कांग्रेस-जेडीएस की ताकत 119 से घटकर 101 रह गई है, जबकि बीजेपी के 107 विधायक हो गए हैं. यानी, 16 बागी विधायक आज विश्वास मत में शामिल नहीं हुए तो सदन में सिर्फ 208 विधायक रह जाएंगे. बहुमत के लिए 105 विधायकों की दरकार होगी, लेकिन सिर्फ 101 विधायक होने से कुमारस्वामी विश्वास मत हार जाएंगे.

सरकार के खिलाफ बागी विधायक कर सकते हैं वोट

विश्वास मत के दौरान आज एक और परिस्थिति उभर सकती है. अगर 16 बागी विधायकों ने सरकार के खिलाफ वोट किया तो सरकार के पक्ष में सिर्फ 101 वोट पड़ेंगे जबकि खिलाफ में 123 वो जाएंगे. यानी तब भी कुमारस्वामी सरकार की पराजय होगी.