नई दिल्ली
बिहार में मूसलाधार बारिश की वजह से बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं. पूर्वी इलाकों में कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. बिहार के फारबिसगंज के एक वीडियो सामने आया है, जिसमें शादी के बाद एक दुल्हन को ड्रम की नाव पर बिठाकर विदा किया जा रहा है.

वीडियो में दिख रहा है कि प्लास्टिक के ड्रम से बनी एक नाव में दूल्हा और दुल्हन बैठे हुए हैं, जबकि कुछ लोग आधे पानी में डूबे हुए उनके साथ में चल रहे हैं. इसी तरह असम के नवगांव जिले से भी एक वीडियो सामने आया है जिसमें ब्रह्मपुत्र नदी में आई बाढ़ की वजह से पूरी सड़क बह गई.

बिहार के हर हिस्से में प्रचंड बारिश ने जमकर कहर बरपाया है. मूसलाधार बारिश ने बिहार के ज्यादातर शहरों को दरिया में तब्दील कर दिया है. भारी बारिश से बिहार में बहने वाली नदियों में पानी तेजी से बढ़ रहा है जिससे बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है. लगातार बारिश के चलते नेपाल से निकलने वाली नदियां उफान पर हैं.

इसकी वजह से कोसी क्षेत्र में खतरा बढ़ गया है. वहीं, गंगा समेत दूसरी नदियों में बढ़ता पानी खतरे की घंटी बजा रहा है. मधुबनी-झंझारपुर के पास कमला नदी का बांध टूट गया है जिससे सैकड़ों लोग गांव में फंस गए हैं.

किशनगंज और नेपाल के तराई इलाकों में कई दिनों से जारी मूसलाधार बारिश से जिले में बहनेवाली सभी नदियां उफान पर हैं. दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में हैं. शिवहर में जिलाधिकारी (डीएम) और पुलिस अधीक्षक (एसपी) के आवास में पानी घुस गया है. बाढ़ के खतरे को देखते हुए रविवार तक सभी स्कूलों में छुट्टी कर दी गई है.

कोसी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. जलस्तर के अधिकतम डिस्चार्ज को देखते हुए जल संसाधन विभाग के निर्देश पर कोसी बराज के सभी 56 फाटक खोल दिए गए हैं. बराज पर इंजीनियर की टीम लगातार कैंप कर रही है. खतरे को देखते हुए बराज कंट्रोल रूम के पास लाल बत्ती जला दी गई है. कई हजार लोग विस्थापित बताए जा रहे हैं.