मुजफ्फरपुर
 बिहार में चमकी बुखार की चपेट में आने से लगातार बच्चों की मौत हो रही है। मुजफ्फरपुर में 129 बच्चों की मौत होने के बाद ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में एसकेएमसीएच के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर भीमसेन कुमार को निलंबित कर दिया गया है।

19 जून को स्वास्थ्य विभाग ने पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (पीएमसीएच) के बाल रोग विशेषज्ञ की एसकेएमसीएच में तैनाती कर दी थी। चमकी बुखार से अब तक राज्य में 165 बच्चों की मौत हो चुकी है। मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच में 129 बच्चों की अब तक मौत हो चुकी है।

वहीं शनिवार को मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच के निकट मानव कंकाल बरामद हुए हैं जिसके बाद से अधिकारियों के हाथ-फूल लग गए हैं। इस मामले को लेकर एक बार फिर राज्य सरकार विरोधियों के निशाने पर आ गई है।


मुजफ्फरपुर के SKMCH अस्पताल में प्रथम तल पर AES से प्रभावित बच्चों के आईसीयू के बाहर गिरी छत की गिर गई।वहीं छत गिरने के समय कोई भी मरीज या उनके अभिभावक वहां नहीं थे नहीं तो काफी गम्भीर हादसा हो सकता था। सूचना मिलते ही SKMCH प्रशासन ने मलबे के टुकड़ों को हटाना शुरू कर दिया है।