पटना
नगर निगम के 75 वार्डों को 72,257 एलईडी लाइट से राेशन किया जा रहा है। प्रदूषण की रोकथाम और हरियाली को बढ़ावा देने के लिए तीन लाख पौधे लगाए जा रहे हैं। नगर निगम सरकार के दो साल पूरे होने पर बुधवार काे मेयर सीता साहू ने गायघाट स्थित एक होटल में आयोजित कार्यक्रम में वार्षिक रिपोर्ट जारी की।

उन्होंने कहा कि साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। प्रत्येक घर में डस्टबिन की सुविधा दी जा रही है। उन्हाेंने कहा कि पटना जंक्शन के सामने 800 दुकानों का सुपर मार्केट अाैर स्मार्ट सिटी के तहत एक दर्जन से अधिक सड़कों को स्मार्ट बनाने का काम किया जा रहा है, जहां पर वाई-फाई के साथ ही बैठने, पेयजल व मोबाइल चार्जिंग की सुविधा हाेगी। आर ब्लॉक से बांसघाट तक सड़क का निर्माण हाेगा। इससे ढाई किलोमीटर की दूरी मात्र 20 मिनट में तय हाे सकेगी। घर से घरौंदा कार्यक्रम के तहत स्लम बस्तियों में पेयजल, स्वास्थ्य, आवास, शिक्षा, टॉयलेट की सुविधा दी जा रही है।

मेयर ने कहा कि मधुबनी पेंटिंग जितनी पुरानी कला है उससे भी अधिक पुराना इतिहास पटना का है। ऐसे में पटना और मधुबनी पेंटिंग को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने के लिए शहर के सार्वजनिक स्थानाें व दीवारों पर पेंटिंग बनाई गई है। 83 हजार वर्गफीट में लगभग 10 करोड़ की लागत से पेंटिंग की गई है। इसमें लगभग एक करोड़ रुपए कलाकारों को दिए गए हैं। पेंटिंग को गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज कराने का प्रयास किया जा रहा है।

नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने निगम के कार्यों की तारीफ करते हुए विकास के प्रति पार्षदों की प्रतिबद्धता की सराहना की। उन्होंने कहा कि पटना के विकास के लिए सभी को साथ रहने की जरूरत है। जितनी आवश्यकता होगी दूसरे विभागों से भी सहयोग लिया जाएगा। पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने सड़कों के निर्माण की विस्तृत जानकारी दी। मौके पर नगर आयुक्त अनुपम कुमार सुमन, इंद्रदीप चंद्रवंशी, विकास कुमार, मधु चौरसिया, दीपा रानी खान उपस्थित थे।