ग्वालियर
शहर में कुत्तों का आतंक बढ़ता ही जा रहा है इससे कहीं ज्यादा नगर निगम के कर्मचारियों की लापरवाही बढ़ती जा रही है। मामला आवारा कुत्ते पकड़ कर फिर वापस छोड़ने की घटना से जुड़ा है। परेशान महिलाएं आज इसी शिकायत के साथ थाने पहुंची और शिकायत दर्ज कराई। 

ठाटीपुर क्षेत्र की प्रीतमविहार कॉलोनी में रहने वाले लोग एक व्यक्ति के आवारा कुत्तों के प्रेम से परेशान है पूरे  मोहल्ले के कुत्ते उसके यहां इकट्ठा होते हैं और फिर आतंक फैलाते हैं,कभी कभी ये कुत्ते हमलावर भी हो जाते है। यहां के लोग बताते है कि कुत्तों के डर से बच्चे बाहर खेल नहीं  सकते वे बाहर निकलने से डरते हैं । शिकायत लेकर थाटीपुर थाने पहुंचे कॉलोनी वासियों ने आरोप लगाये कि  कॉलोनी में ही रहने वाले रेनू सिंह ने कुत्तों को लपका रखा है। महिलाओ का कहना था कि पिछले  दिनों शिकायत के बाद नगर निगम के दस्ते ने इन्हें पकड़ा भी था लेकिन उन कुत्ता प्रेमी की साठगाँठ से वे फिर उन कुत्तों को कॉलोनी में छोड़ गये,कुछ कुत्ते ज्यादा खूंखार हैं   जो लोगो कों काटने दौड़ते है।

शिकायत सुनने के बाद टी आई यशवंत गोयल का कहना था कि नगर निगम के अधिकारियों को ख़बर दे दी गई है और दूसरे पक्ष को समझा दिया गया है उन्होंने कुत्तों को घर मे रखने और नसबंदी कराने का भरोसा दिया है। गौरतलब है कि ग्वालियर में हाल ही में कुत्तों के काटने की कई घटनाएं हुई है जिस में 4 साल की एक मासूम बच्ची की कुत्ते के चीथ डालने से मौत हो गई तो दूसरी घटना 3 साल के मासूम पीयूष के साथ घटी जिसमें वह घायल हो गया और एक युवक के प्रयास से उसकी जान बच सकी। उसके बाद से कलेक्टर अनुराग चौधरी ने नगर निगम कमिश्नर संदीप माकिन को आवारा कुत्ते पकड़वाने के निर्देश दिए थे। लेकिन इस घटना को देखकर लगता है कि निगम कर्मचारी कुत्ते पकड़ने की रस्म अदायगी कर रहे हैं।