वाशिंगटन 

हार्ले डेविडसन की मोटरसाइकिल पर भारत के 'उच्च' आयात शुल्क लगाने की एक बार फिर आलोचना करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने इसे ‘अस्वीकार्य’ बताया। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका वह बैंक है, जिसे हर कोई ‘लूटना’ चाहता है। लेकिन उनके नेतृत्व में अमेरिका ऐसा देश बन रहा है, जिसे कोई भी बुद्धू नहीं बना सकता। हालांकि, उन्होंने स्वीकार किया कि उनके ‘अच्छे दोस्त’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर शुल्क को 100% से घटाकर 50% कर दिया है।  
 

सीबीएस न्यूज को सोमवार को दिए एक साक्षात्कार में ट्रंप ने कहा, ‘हम मूर्ख देश नहीं हैं कि इतना बुरा करें। आप भारत की ओर देखें कि वह क्या कर चुके हैं। वह एक मोटरसाइकिल पर 100% कर लेते हैं। हम उनसे कुछ नहीं लेते।’ ट्रंप का इशारा हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल की ओर था। यह मुद्दा उनके बेहद करीब है। वह चाहते हैं कि भारत इस पर शुल्क को घटाकर शून्य प्रतिशत करे। 
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना अजीज दोस्त बताते हुए ट्रंप ने उनसे हुई बातचीत के संदर्भ में कहा, ‘हम जब हार्ले वहां भेजते हैं तो वह उस पर 100% कर लेते हैं, जबकि वह हमें मोटरसाइकिल भेजते हैं तो हम कोई कर नहीं लेते। मैंने उन्हें (मोदी को) कॉल कर कहा कि यह अस्वीकार्य है और उन्होंने एक ही कॉल के बाद इसे घटाकर 50% कर दिया। मैंने कहा कि यह अभी भी अस्वीकार्य है, क्योंकि यह अभी 50% के बदले कुछ नहीं है। यह अस्वीकार्य है और हम इस पर काम कर रहे हैं।’ 

उन्होंने संकेत दिया कि दोनों देश अमेरिकी मोटरसाइकिलों पर आयात शुल्क के मुद्दे का समाधान करने के लिए बातचीत कर रहे हैं। ट्रंप के हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल पर लगाए जाने वाले आयात शुल्क को ‘अनुचित’ बताने के बाद भारत ने पिछले साल फरवरी में इसे घटाकर 50% कर दिया था। ट्रंप इससे पहले भी भारत की आलोचना ‘दुनिया में सबसे अधिक कर’ लेने वाले देश के रूप में कर चुके हैं।