वैशाख का महीना खत्म होने के साथ ही ज्येष्ठ माह शुरू हो चुका है। इस बार ज्येष्ठ माह का पहला बड़ा मंगल 21 मई को होगा। इस साल ज्येष्ठ माह 19 मई से शुरू हुआ जो अगले महीने 17 जून तक रहेगा।

2019 के ज्येष्ठ माह में चार बड़ा मंगल पड़ेंगे। पहला बड़ा मंगल 21 मई, दूसरा 28 मई, तीसरा 4 जून और चौथा बड़ा मंगल 11 जून को पड़ेगा। इस बार पहला बड़ा मंगल सर्वार्थ सिद्धियोग में पड़ रहा है और इस वजह से इस दिन की महत्ता और बढ़ जाती है। बड़ा मंगल पर हनुमान जी की खास पूजा अर्चना की जाती है।

जानें क्या है सर्वार्थ सिद्धियोग
21 मई को बड़ा मंगल सर्वार्थ सिद्धियोग में रहने से शुभ योग बनेगा। सर्वार्थ सिद्धियोग से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये समय बहुत शुभ है और इस दिन आप अपने विशेष कामों की शुरुआत कर सकते हैं। ये याद रखें कि अच्छे समय पर यदि व्यक्ति से कोई गलती भी हो जाए तो वो नुकसानदायक साबित नहीं होती है लेकिन इसके विपरीत यदि बुरे वक्त में आप जितना भी अच्छा कार्य कर लें, उसका फल नहीं मिल पाता है।

पवनसुत हनुमान शिवजी के 11वें रूद्रावतार हैं और ये विश्वास है कि आज भी इस कलयुग में वो सशरीर धरती पर भ्रमण कर रहे हैं। वो अपने भक्तों को परेशानी से निकालने के लिए तैयार रहते हैं। बड़ा मंगल पर हनुमान जी की पूजा करने और व्रत रखने से घर में सुख संपदा में वृद्धि होती है।

Most Read: सिर्फ मंगलवार और शनिवार को ही कर लेंगे हनुमान चालीसा का पाठ तो मिलेंगे अनगिनत लाभ
21 मई को है पहला बड़ा मंगल
21 मई को है पहला बड़ा मंगल

इस दिन चंद्रमा धनु राशि में मौजूद रहेगा और ये मंगल की मित्र राशि है। बृहस्पति देव गुरु हैं, जो धर्म की रक्षा करते हैं। इससे सबका कल्याण होता है तथा सिद्ध योग होने की वजह से व्यक्ति को हर कार्य में सफलता मिलेगी। देखा जाए तो इस साल ज्येष्ठ के बड़े मंगल की शुरूआत काफी शुभ और फलदायक होगी।
28 मई को दूसरा बड़ा मंगल
28 मई को दूसरा बड़ा मंगल
28 मई को दूसरा बड़ा मंगल पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र में पड़ने वाला है। पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र का स्वामी गुरू है और इस दिन इनका खास प्रभाव रहेगा।

 

4 जून को पड़ेगा तीसरा बड़ा मंगल
चार जून को तीसरा बड़ा मंगल लगेगा जब चार जून को शुक्ल पक्ष प्रतिपदा के साथ मृगशिरा रहेगा। मृगशिरा नक्षत्र का स्वामी मंगल है और ये सबके लिए मंगलकारी रहेगा। ये एक शुभ संकेत और योग है। हर भक्त को इसका लाभ मिलेगा।

चौथा बड़ा मंगल 11 जून को
11 जून को चौथा मंगल है जब उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र के साथ कर्क राशि रहेगी। इस दिन सिद्ध योग भी रहेगा और इस तरह से इस बार ज्येष्ठ के चारों मंगल शुभ योग में पड़ रहे हैं।