सब लोग इस बात से वाकिफ होंगे कि मोर पंख का इस्तेमाल जहां घर को सजाने के लिए किया जाता है तो वहीं वास्तु शास्त्र में इसका प्रयोग वास्तु दोष को दूर करना के लिए किया जाता है। कहते हैं इसके प्रयोग से व्यक्ति के सारे कष्ट मिट जाते हैं। हमारे जीवन में जितनी भी समस्याएं आती हैं, वे मोर पंख के इस्तेमाल से दूर हो जाती हैं। ऐसा माना जाता है कि इसे घर या ऑफिस के किसी भी कोने में रखा जा सकता है और इसे लगाने से घर में सुख-समृद्धि आती है। अगर आप घर-परिवार और बच्चों की पढ़ाई को लंकर लंबे समय से परेशान चल रहे हैं तो मोर पंख के इस्तेमाल से इन सभी चीजों से जल्द ही आपके जीवन में खुशियां वापस आ जाएंगी। तो आइए जानते हैं इसके फायदे।

अगर किसी की राहु की दशा खराब चल रही है, तो वह मोर पंख का इस्तेमाल करके अपनी दिन-दशा में परिवर्तन ला सकता है। अपनी कुंडली से जुड़े इस दोष को दूर करने के लिए सोते समय तकिए के नीचे मोर पंख रखकर सोएं। मोर पंख के इस उपाय से आपकी राहु की दशा में तुरंत सुधार आ जाएगा।

ग्रहों से जुड़े दोषों के कारण कई बार हमारा कोई काम नहीं बनता है और जिसकी वजह से व्यक्ति को निराशा का सामना करना पड़ता है। तो ऐसे में अपने घर की उत्तर-पूर्व दिशा में मोर पंख लगाने से आपको कभी भी मानसिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। 

जो बच्चे पढ़ने-लिखने में पीछे होते हैं, उनके रुम में मोर पंख लगा देना से उनका ध्यान पढ़ने की तरफ लगता है। आप मोर पंख को उसकी टेबल पर रखें या उसकी किताब में डालकर रखें। 

मोर पंख का इस्तेमाल वास्तुदोष दूर करने के लिए भी किया जाता है। घर के मुख्य द्वार पर गणेश जी का मूर्ति और मोर का पंख रखें। इससे आपके घर से जुड़े वास्तुदोष दूर होंगे और परिवार में सुख-शांति कायम रहेगी। 

कहते हैं कि घर में अगर  छिपकली आती हैं तो मोर पंख लगाने से वे भाग जाती हैं। मोर का पंख लगाने के बाद छिपकलियां घर में आस-पास नजर नहीं आती हैं।