नासिक
मुंबई से करीब 270 किमी दूर मालेगांव में लोग जब एक शादी में शिरकत करने पहुंचे तो विवाहस्थल पर न ही जश्न था, न सजावट थी और न ही कोई पांडाल। एक चीज जिसने सभी का ध्यान अपनी ओर खींचा, वह था एक ब्लैकबोर्ड जिसपर दुल्हन के पिता का संदेश लिखा था- दहेज की लगातार मांग और आलीशान बेड पर असहमति की वजह से शादी कैंसल कर दी गई है। इस बोर्ड को वहां पहुंचे लोगों ने तो देखा और सराहा ही, सोशल मीडिया पर भी अब पिता की हिम्मत को सलाम किया जा रहा है।

मामला नासिक के इस छोटे से कस्बे का है। यहां पांच बच्चों के पिता ने अपनी 22 साल की बेटी का हाथ पेशे से कार्पेंटर के हाथ में देने का फैसला किया। पिता मिठाई की दुकान पर काम करते हैं। दोनों परिवारों ने करीब एक साल पहले शादी तय की थी। लड़कीवालों ने सोमवार को बारात के स्वागत की तैयारी कर ली लेकिन उससे पहले ही सब चौपट हो गया।

दूल्हा का दावा, बेड छोटा था इसलिए लौटाया
एक सूत्र ने बताया कि लड़की के पिता आलीशान बेड की मांग पूरी नहीं कर सके और परेशान होकर शादी तोड़ दी। हालांकि, लड़के के परिवार ने इस आरोप का खंडन किया है दूल्हे ने बताया, 'हमारी शादी एक साल पहले पक्की हो गई थी। जब बेड हमारे घर आया तो वह मेरी हाइट से छोटा निकला। मेरे परिवार ने पोर्टर से बेड न सेट करने के लिए कहा। पोर्टर ने लड़की के पिता को जो बताया उससे गलतफहमी हो गई।'

"इस सूचना के द्वारा मैं आने वाले सभी मेहमान से क्षमाप्रार्थी हूं कि आज सोमवार दिनांक 15 अप्रैल, 2019 को मेरी बेटी के निकाह और दावत की मजलिस लड़के और उसके माता-पिता की ओर से दहेज की बार-बार मांग की वजह से और आलीशान बेड की मांग को लेकर उनके द्वारा अपशब्द बोले जाने से आहत होकर रद्द की जाती है। मैं आने वाले सभी मेहमानों से फिर से क्षमा मांगता हूं।"-शादी स्थल पर संदेश

सोशल मीडिया पर पिता की तारीफ
सूत्रों ने बताया कि लड़के के परिवार ने लड़की के पिता को प्रताड़ित किया था और इससे हालात बिगड़ गए और परेशानियां खड़ी होने लगीं। दूल्हे ने कहा है कि उसने तो 9000 रुपये के गद्दे भी बनवा लिए थे क्योंकि उनको पता था कि लड़ती आर्थिक रूप से कमजोर परिवार से आती है। हालांकि, सोशल मीडिया पर पिता के लगाए ब्लैकबोर्ड की तस्वीरे शेयर होने के साथ ही लोग दहेज के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे हैं। साथ ही, लड़की के पिता की हिम्मत की सराहना कर रहे हैं।