भोपाल

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर दोनों बड़े राजनीतिक दल एक दूसरे को घेरने में लगे है। इस खींच तान में बीजेपी ने एक बार फिर से मुख्यमंत्री कमलनाथ के सामने मुश्किलें खड़ी कर दी है। बीजेपी ने सीएम कमलनाथ के खिलाफ आचार संहिता के उल्लघंन की चुनाव आयेाग में एक शिकायत दर्ज कराई है। जिसमें उन पर कांग्रेस पार्टी के प्रचार के लिए धार्मिक स्थल का उपयोग करने के आरोप लगाए हैं। भाजपा ने छिंदवाड़ा जिला निर्वाचन अधिकारी को तत्काल हटाए जाने की मांग भी की है।
 
जानकारी के अनुसार, बीजेपी ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से की गई शिकायत में कहा गया है कि भारत निर्वाचन आयोग के द्वारा छिन्दवाडा विधानसभा क्षेत्र का उप-निर्वाचन एवं लोकसभा क्षेत्र के लिए निर्वाचन कार्यक्रम घोषित किया जा चुका है। इसके बावजूद भी सीएम कमलनाथ चुनावी दौरे कर रहे हैं। कमलनाथ प्रदेश के मुख्यमंत्री होने के साथ ही प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी हैं, चुनावी दौरे पर स्थान जाकर जनता को संबोधित भी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पांढुर्णा नगर में एक चुनावी सभा को संबोधित किया। यह चुनावी सभा धार्मिक स्थल, नवदुर्गा मंदिर समिति द्वारा आयोजित की गईं थी। सभा स्थल पर जो बैनर लगाए गए थे उनमें एक बैनर पर लिखा था 'मंदिर समिति स्वागत करता है', तथा दूसरे बैनर पर लिखा था ''वक्त है बदलाव का क्षेत्रीय कांग्रेस कमेटी छिन्दवाड़ा'।
 
शिकायत में यह भी कहा गया कि इस बैनर पर एक ओर श्रीमती सोनिया गांधी का चित्र था तो दूसरी तरफ कमलनाथ का चित्र था और साथ ही माता दुर्गा का चित्र भी लगा था। उन्होंने धार्मिक सभा की आड़ में नकुलनाथ के लिए चुनाव प्रचार किया और मतदाताओं को वोट देने का आग्रह भी किया। इस सभा की अध्यक्षता पूर्व विधायक दीपक सक्सेना के द्वारा की गई थी। मुख्यमंत्री का यह कृत्य आचार संहिता के उल्लंघन की श्रेणी में आता है।