पिछले 5 साल में आधे दर्जन से ज्यादा फिल्मों में और शाहरुख खान, वरुण धवन, टाइगर श्रॉफ, सुशांत सिंह राजपूत, आयुष्मान खुराना और राजकुमार राव जैसे अभिनेताओं के साथ काम करने बाद भी आज भी अभिनेत्री कृति सेनन खुद को आउटसाइडर महसूस करती हैं। आने वाले दिनों में करण जौहर की 'कलंक', 'हॉउसफुल 4', 'अर्जुन पटियाला', 'पानीपत' और 'लुका-छुपी' जैसी बेहतरीन फिल्मों का हिस्सा होने के बाद भी कृति को अब तक इंडस्ट्री ने पूरी तरह अपनाया नहीं है।

अपनी फिल्म 'लुका-छुपी' के प्रमोशनल इंटरव्यू के दौरान हमसे हुई बातचीत में कृति फिल्म के साथी कलाकार कार्तिक आर्यन के साथ काम करने का अनुभव बता रही थीं, तभी उनकी बातों से पता चला वह आज भी खुद इंडस्ट्री के बाहर का महसूस करती हैं। कार्तिक के साथ काम का अनुभव बताते हुए कृति सैनन ने कहा, 'कार्तिक के साथ काम करने का अनुभव बहुत अच्छा था। दरअसल हम दोनों मिडिल क्लास फैमिली से संबंध रखते हैं और दोनों ही आउटसाइडर हैं। दोनों की भले जर्नी अलग-अलग रही है, लेकिन हम दोनों लगभग एक ही तरह के बैकग्राउंड से हैं, इसलिए एक-दूसरे की सोच-समझ से मेल कहते हैं।'

क्या अब भी आप खुद को आउटसाइडर महसूस करती हैं? जवाब में कृति कहती हैं, 'बड़े रूप में खुद को फिल्म इंडस्ट्री का पार्ट महसूस करती हूं, लेकिन जब बात किसी फिल्मी पार्टी की होती है तो मिलने-मिलाने का सिलसिला जल्द ही पूरा हो जाता है, तब पार्टी में खड़ी सोचती हूं, अब क्या किया जाए? फिर अपने मोबाइल में बिजी हो जाती हूं। हालांकि पहले से अब तक में काफी कुछ बदला है, लेकिन अब भी थोड़ा-थोड़ा खुद को आउटसाइडर की तरह महसूस करती हूं।'

अपनी बात को समझते हुए कृति आगे कहती हैं, 'अब ऐसा है कि मैं भी फिल्म इंडस्ट्री के कुछ लोगों को जानती हूं और इंडस्ट्री के कुछ लोग भी मुझे जानते हैं। कुछ ब्रिलियंट निर्देशकों के साथ काम करने के बारे में सोचती हूं तो ऐसा महसूस होता है कि अभी भी कुछ सीमाएं हैं, जिनको तोडना बाकी है, ताकि उन बड़े और ब्रिलियंट निर्देशकों के साथ काम करने का मौका मुझे भी मिले। उम्मीद है जल्द ही यह बाउंड्री मैं तोड़ दूंगी। कभी-कभी एक बेहतरीन डायरेक्टर आपके अंदर के ऐक्टर को और भी खूबसूरती से बाहर लाता है, जो आप खुद एक ऐक्टर होने के बाद भी नहीं कर पाते हैं।'