Saturday, September 22nd, 2018

राहुल ने नहीं सुनी जनता कांग्रेस की गुहार

जगदलपुर
शनिवार को स्थानीय संजय बाजार में करीब दो घंटे तक अमित जोगी व उनके समर्थक श्रोता बनकर राहुल गांधी का इंतजार करते रहे लेकिन वे नहीं आए। वहीं अपने संबोधन में बस्तर के मामलों को उनकी पार्टी के द्वारा उठाने की क्रेडिट भी जमकर ली। छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस ने राहुल के बस्तर आगमन के दूसरे दिन खूब ड्रामा रचा। संजय बाजार में दोपहर करीब 12 बजे सभा का आयोजन कर राहुल को मुख्य अतिथि घोषित किया। सिंहासननुमा कुर्सी पर राहुल के नाम की पर्ची लगाकर उनका इंतजार किया।

पार्टी के नेता अमित जोगी ने अपने शुरूआती संबोधन में ही कह दिया कि आज वह सभी श्रोता हैं और राहुल का इंतजार कर रहे हैं। लिहाजा मंच में सभी दरी पर बैठे रहे। बस्तर से जुड़े पांच सवाल अपने भाषण में राहुल से पूछे और चुनौती पेश की कि यदि वे एक का भी जवाब देते हैं तो वह राजनीति छोड़ देंगे। बीच-बीच में अपने कार्यकर्ताओं से राहुल के सभा की जानकारी भी लेते रहे। साथ ही, यह घोषणा की कि यदि उनके सवालों का जवाब नहीं मिलता है तो वे मारकेल कूच करेंगे, जहां दो बजे से कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की सभा थी। दोपहर करीब दो बजे मारकेल जाने का निर्णय लिया जिन्हें पुलिस ने संजय बाजार के सामने से ही हिरासत में लेकर परपा थाना ले गई।

राहुल के शहर से जाने के बाद शाम करीब साढे चार बजे छग जनता कांग्रेस के नेताओं को मुचलका पर रिहा कर दिया गया। जनता कांग्रेस की सभा के दौरान पार्टी की युवा इकाई के प्रदेशाध्यक्ष विनोद तिवारी, पुलक भट्टाचार्य, संतोष यादव, तौसीफ जहां, अमित तिवारी, गौरीकांत मिश्रा, केके वासुदेवन, बलीराम कश्यप, चंदू झाड़ी, कोंडल राव, नवनीत चांद समेत सैकड़ों कार्यकर्ता-पदाधिकारी मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन मुकेश शर्मा व जितेंद्र गोलछा ने किया।

एनएमडीसी व पानी के सवाल
मार्च व अप्रैल 2013 में कांग्रेेस के शासनकाल में नगरनार में निर्माणाधीन एनएमडीसी स्टील प्लांट को बेचने के निर्णय पर सवाल उठाते पूछा कि क्यों यह निर्णय लिया गया था। पिछले तीन साल मेें प्रधानमंत्री को इस प्लांट के बेचने के निर्णय के विरोध में पत्र क्यों नहीं लिखा? एनएमडीसी का मुख्यालय हैदराबाद से बस्तर लाने के लिए क्या किया? पोलावरम बांध व इंद्रावती नदी से जुड़े विषय भी उठाए और राहुल से पूछा कि इन दोनों मामलों में उन्होंने क्या किया है?

शाह से भी पूछेंगे सवाल
संबोधन के दौरान अमित जोगी ने कहा कि वे केवल राहुल से ही यह सवाल नहीं पूछ रहे हैं बल्कि भविष्य में जब भी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह बस्तर आएंगे, उनसे भी यह सवाल पार्टी पूछेगी। चार साल बाद राहुल के बस्तर आने पर चुटकी भी ली। जोगी ने कहा कि दिल्ली के नेता चार साल बाद यहां आए हैं इसलिए उनके लिए सिंहासन रखा गया है। राहुल चार साल पहले आए थे, चार साल बाद फिर आएंगे। उन्होंने पूछा कि क्या यह उनका टूरिज्म पैकेज है। खुद की पार्टी के द्वारा एक साल में बस्तर से जुड़े मामलों पर 40 आंदोलन करने की बात भी कही। अमित ने कहा कि चाहे सलवा जुडूम हो या अन्य मामले, उन्होंने कांग्रेस में रहने के दौरान भी हाईकमान के निर्णय का विरोध किया था।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

8 + 5 =

पाठको की राय