Sunday, September 23rd, 2018

“जन-सुनवाई में मिली बड़ी राहत : 149 जरूरतमंदों ने बतलाईं अपनी समस्याएं 

ग्वालियर 
जरूरतमंदों को त्वरित सहायता उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मंगलवार को कलेक्ट्रेट के टी.धर्माराव सभागार में आयोजित की जाने वाली जन-सुनवाई कई लोगों को आर्थिक सहायता व भविष्य में समस्या के सारगर्भित समाधान के साथ सम्पन्न हुई। कलेक्टर राहुल जैन की अध्यक्षता में आयोजित जन-सुनवाई में 149 जरूरतमंदों द्वारा अपने आवेदन कलेक्टर और अन्य जिला अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत किए गए। नैतिक को फिर मिलेंगे नन्हे हाथ घर के बाहर से निकली 33 केव्ही/11 केव्ही हाईटेंशन विद्युत लाईन से 13 अगस्त 2017 को करंट लगने के कारण अपने दोनों हाथ गवां चुका नैतिक बाथम पुत्र राजेश बाथम उम्र 8 वर्ष निवासी कोटेश्वर रोड़ गंगामाई मंदिर के सामने ग्वालियर के लिये बाल दिवस के अवसर पर आयोजित जन-सुनवाई उसके मासूम जीवन में उम्मीद की नई किरण के साथ आई है। अपनी माँ श्रीमती ममता शाक्य के साथ जन-सुनवाई में कलेक्टर राहुल जैन के समक्ष अपने साथ हुए हादसे की कहानी बयां करता नैतिक आँखों में आँसू लिए पूँछता है कि “क्या अंकल मेरे हाथ मुझे वापस मिल जायेंगे”?  नैतिक का प्रश्न कलेक्टर को असहज बना देता है, वह उसे यह आश्वासन दे पाते हैं कि “बेटा हम तुम्हारे लिये नए हाथ मंगायेंगे”। इसके उपरांत कलेक्टर जैन ने सिविल सर्जन गुप्ता को निर्देश दिए कि नैतिक के हाथों की पुन: सर्जरी कराकर आरबीएस के माध्यम से नवीन कृत्रिम हाथ उपलब्ध कराए जाएँ। इसका सम्पूर्ण व्यय सरकार वहन करेगी, इसके लिये जयपुर व दिल्ली सहित जहाँ भी आवश्यक होगा, वहाँ पर सिविल सर्जन संपर्क कर इस कार्य को समय-सीमा में पूर्ण करायेंगे। इसके साथ ही नैतिक को दिव्यांग हितग्राही के रूप में मिलने वाली सभी सहायता राशियाँ भी उपलब्ध कराई जायेंगीं। उन्होंने नैतिक का दिव्यांग प्रमाण-पत्र तुरंत बनाने के निर्देश दिए। 

सड़क दुर्घटना में मृत छोटे सिंह परिहार के पुत्र को तुरंत दी आर्थिक सहायता 
जन-सुनवाई के दौरान चीनोर तहसील के ग्राम ररूआ निवासी धीरज सिंह परिहार ने बतलाया कि 4 अक्टूबर 2016 को उसके पिता छोटे सिंह परिहार की मृत्यु उस सड़क बस दुर्घटना में हो गई थी, जिसमें मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के लिये जाने वाले हितग्राहियों को लेकर जिला मुख्यालय ग्वालियर लाया जा रहा था। धीरज सिंह अपने पिता की मृत्यु के बाद से आर्थिक सहायता के लिये लगातार प्रयासरत था, उसका प्रकरण स्वीकृत भी किया जा चुका था। लेकिन शासन द्वारा आवंटन की प्रतीक्षा में लंबित रखा गया है। इस पर जैन ने संबंधित शाखा के लिपिक को तलब कर फटकार लगाई और धीरज को तुरंत 15 हजार रूपए की राशि जिला रेडक्रॉस सोसायटी से स्वीकृत कर जन-सुनवाई हॉल में ही प्रदान की। इसके साथ ही उन्होंने अन्य आर्थिक सहायता के लिये प्रकरण धर्मस्व विभाग को तुरंत भेजने के निर्देश ओआईसी एच बी शर्मा को दिए। 

कमलादेवी को आरबीसी के तहत सहायता के निर्देश 
डबरा विकासखण्ड के ग्राम चकजौरासी निवासी 70 वर्षीय कमलादेवी पत्नी जगदीशलाल के मकान में अचानक आग लग जाने के कारण घर और सामान दोनों क्षतिग्रस्त हो गए थे। कमलादेवी रहने और खाने दोनों के लिये मोहताज हो गई है। कलेक्टर राहुल जैन ने तहसीलदार डबरा को निर्देश दिए कि तुरंत मौके का मुआयना करें तथा कमलादेवी को आरबीसी-6(4) के तहत आर्थिक सहायता उपलब्ध करायें। 

शशांक को स्कूल भेजने और दौलतराम को दिल्ली भेजने हेतु व्यवस्था के निर्देश 
भारतीय विद्या निकेतन शिवपुरी लिंक रोड़ के कक्षा-4 में पढ़ रहे शशांक पाराशर पुत्र सोनू पाराशर ने जन-सुनवाई में बतलाया कि स्कूल के स्टाफ द्वारा उसे स्कूल लाने-लेजाने में प्रताड़ित किया जाता है। अनेक बार उसे घर से काफी दूर छोड़ दिया जाता है, जो उसकी सुरक्षा से भी खिलवाड़ है। कलेक्टर द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी नीखरा को इस संबंध में भारतीय विद्या निकेतन के प्रबंधन से स्पष्टीकरण मांगने के निर्देश दिए हैं। दौलतराम जाटव पुत्र रामचरण निवासी गुढ़ा-गुढ़ी उम्र 60 वर्ष की बेस्कुलर सर्जरी अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान नईदिल्ली में होना है। इसके लिये राज्य बीमारी सहायता निधि से सरकार द्वारा आर्थिक सहायता भी प्रदान की जा रही है। लेकिन दौलतराम के पास दिल्ली तक जाने की व्यवस्था नहीं है। उन्होंने जब अपनी व्यथा जन-सुनवाई के दौरान कलेक्टर जैन को बतलाई तो उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दौलतराम को तुरंत नईदिल्ली तक के किराए के लिये दो हजार रूपए की राशि प्रदान करने के निर्देश दिए। जिससे दौलतराम अपने कूल्हे की सर्जरी करा सकेंगे।

Source : Agency

संबंधित ख़बरें

आपकी राय

1 + 8 =

पाठको की राय