पटना

पिछले 4 महीने से जेल में बंद पटना के आसरा शेल्टर होम की संचालिका मनीषा दयाल पटना हाईकोर्ट से नियमित जमानत मिलने के बाद मंगलवार को जेल से रिहा हो गई। जेल से बाहर निकलने के बाद उन्होंने कहा कि मुझे फंसाया गया है, मैं निर्दोष हूं।

इससे पहले शुक्रवार को न्यायाधीश एस कुमार की एकल पीठ ने दायर नियमित जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए मनीषा दयाल को रिहा करने का आदेश दे दिया था। कुछ जरूरी कागजी कार्रवाई पूरी करने के कारण मनीषा को जेल से बाहर आने में थोड़ा समय लग गया। जेल से बाहर आते समय मनीषा के चेहरे पर खुशी साफ झलक रही थी।

गौरतलब है कि जांच के दौरान पटना के आसरा शेल्टर होम की कार्यशैली में कुछ गड़बड़ियां उजागर हुईं थी। इसके बाद शेल्टर होम की संचालिका मनीषा दयाल और सहयोगी चिरंतन कुमार को गिरफ्तार किया गया था। शेल्टर होम में दो लड़कियों की संदिग्ध मौत हुई थी। साथ ही मनीषा दयाल के आसरा होम से 10 अगस्त को कुछ लड़कियां भागने की कोशिश करते पकड़ी गई थी।